गोरखपुर. गोरखपुर पुलिस ने सोमवार को चर्चित दवा कारोबारी सईद अहमद की मौत की गुत्थी आखिरकार सुलझा लेने का दावा किया है. पुलिस ने मृतक दवा कारोबारी के बेटे अनस अहमद को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है. पुलिस का दावा है कि बेटे ने ही प्रॉपर्टी के विवाद में अपने पिता की उनकी ही लाइसेंसी रिवाल्वर से गोली मारकर हत्या की दी. इतना ही नहीं पुलिस को गुमराह करने के लिए हत्यारोपी बेटे ने अपने पिता की हत्या का आत्महत्या देने की साजिश भी रची थी. लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृतक कारोबारी के शरीर में तीन गोली लगने की पुष्टि होने पर पुलिस भी पेशोपेश में पड़ गयी थी. क्योंकि एक साथ तीन गोली मारकर आत्महत्या करने की थ्योरी पुलिस के गले की नीचे नहीं उतर रहा था.

दूसरी तरफ मृतक दवा कारोबारी के इकलौते बेटे अनस की हरकत भी संदेह के घेरे में थी. ऐसे में हैंडवॉश रिपोर्ट आने और परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर दवा कारोबारी की बेटे अनस को गिरफ्तार किया गया है. सीओ कोतवाली वीपी सिंह का दावा है कि प्रॉपर्टी के विवाद को लेकर अनस अहमद ने ही गोली मारकर अपने पिता की हत्या की थी. वारदात के बाद खुद को पुलिस से बचाने को लेकर उसने अपने पिता के हाथ में रिवाल्वर थमा दिया था. वहीं हैंडवॉश रिपोर्ट में मृतक दवा कारोबारी सईद अहमद के हाथ से गोली के नहीं चलने की बात सामने आई साथ ही मृतक के हाथ से बारूद की गंथ नहीं मिली है.
सीओ ने कहा है कि ऐसे में परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर पुलिस ने जब कड़ाई से कारोबारी के बेटे अनस से पूछताछ की तो उसने अपना गुनाह कबूला कर लिया है.


क्या होता है हैंडवॉश रिपोर्ट

अक्सर आत्महत्या के ऐसे मामले में यह जांच काफी महत्वपूर्ण हो जाती है. क्योंकि रिपोर्ट में हाथ से असलहा चलाया गया की नहीं उसका पता चलता है. साथ ही असलहा चलाने वाले के हाथ में बारूद के कण अ‌वश्य मिलते. ऐसे में रिपोर्ट में मृतक सईद द्वारा असलहा नहीं चलाये जाने की पुष्टि के बाद मौत हत्या में तब्दील हो गयी. और पुलिस ने मौत की गुत्थी सुलझाई है.

13 फरवरी को हुए थी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

बता दें कि शहर के कोतवाली थाना क्षेत्र के इस्माईलपुर में दवा कारोबारी सईद अहमद की बीते 13 फरवरी को संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लगने से मौत हुई थी. हालांकि उस वक्त उनके एकलौते बेटे अनस ने अवसाद में गोली मारकर पिता द्वारा आत्महत्या किये जाने की बात पुलिस को बताई थी. जिस पर पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा था. वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृतक कारोबारी के शरीर में तीन गोली मिली थी. जिस पर आत्महत्या किये जाने की बात पर सवालिया निशाना उठ खड़े हुये थे.