गुरुग्राम । कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की खोजबीन और महामारी को फैलने से रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीमें पूरे गुरुग्राम जिले में घर-घर जाकर खांसी-जुकाम के मरीजों की जांच करेंगी। सर्वे के लिए 3 स्तर पर टीम लगाई जाएंगी। इस संबंध में गुरुग्राम जिले के मॉनिटरिंग अधिकारी एसीएस वीएस कुंडू ने बुधवार को जोनल अधिकारियों की बैठक ली। पहले स्तर पर जोनल अधिकारी, उनके नीचे सेक्टर ऑफिसर काम करेंगे और उनके नीचे धरातल पर यूनिट टीम काम करेंगी। बैठक में मौजूद उपायुक्त अमित खत्री ने कहा कि डोर टू डोर सर्वे में कहीं किसी व्यक्ति को बुखार या खांसी आदि के लक्षण हों, कहीं कोई व्यक्ति बाहर से आया हो या किसी बाहरी व्यक्ति के संपर्क में आया हो इसकी पड़ताल की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस कार्य में शहरी क्षेत्र में नगर निगम और नगर पालिका पार्षदों का सहयोग लिया जाएगा और ग्रामीण क्षेत्र में सरपंच, पंच, पंचायत समिति, जिला परिषद सदस्य का सहयोग लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि गुरुग्राम जिले के ग्रामीण क्षेत्र में डोर टू डोर सर्वे के लिए 203 टीम बनाई गईं हैं।
प्रदेश के नूंह के सबसे ज्यादा कोरोना मरीज मिलने के बाद जिला प्रशासन अलर्ट हो गया है। सोहना के रायपुर गांव समेत पटौदी क्षेत्र कोरोना का हॉट स्पॉट बन रहा है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार इन क्षेत्रों के अलावा जिले के 11 क्षेत्र कंटेनमेंट (रोकथाम)जोन घोषित किए गए हैं। इनमें वे क्षेत्र शामिल है जहां पर कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। अधिकारियों का कहना है कि शुक्रवार से रैपिड एंटीबॉडी जांच भी शुरू हो जाएगी।