नई दिल्ली । दुनिया की सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला भारतीय में दस्तक देने जा रही है। टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने पिछले दिनों पुष्टि की कि उनकी कंपनी भारतीय बाजार में प्रवेश करने वाली है। इलेक्ट्रिक वाहन बनाने वाली दिग्गज कंपनी ने हाल में भारत में अपनी यूनिट टेस्ला इंडिया का रजिस्ट्रेशन किया है। इस बीच केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने एलन मस्क को एक प्रस्ताव देते हुए कहा है कि अगर टेस्ला भारत में अपने इलेक्ट्रिक वाहन बनाती है तो उसकी उत्पादन लागत चीन की तुलना में कम होगी। 
गडकरी ने कहा कि भारत में कारों के बजाय उन्हें स्थानीय विक्रेताओं को काम पर रखकर पूरे उत्पाद बनाने चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर टेस्ला ये करती है तो हम उच्च रियायतें दे सकते हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जब वे भारत में अपनी कारों का निर्माण शुरू करेंगे तब सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि टेस्ला के लिए उत्पादन लागत चीन समेत दुनिया के अन्य देशों की तुलना में सबसे कम होगी। सूत्रों के अनुसार टेस्ला की योजना भारत में अपनी मॉडल 3 इलेक्ट्रिक सेडान का आयात और बिक्री शुरू करने की है।
खबर है कि टेस्ला इसी साल भारत में परिचालन शुरू कर सकती है। मस्क ने एक ब्लॉग के लिंक वाले ट्वीट ग्रुप के जवाब में हाल ही में लिखा था, वादे के मुताबिक। इस ब्लॉग में विश्लेषण किया गया है कि भारी कीमतों के बावजूद टेस्ला कारों के लिए भारत एक प्रमुख बाजार के रूप में किस तरह विकसित हो सकता है। इस सप्ताह के शुरूआत में पता चला था कि अमेरिकी इलेक्ट्रिक कार कंपनी ने अपनी भारतीय इकाई का रजिस्ट्रेशन किया है, और वह भारत के ऑटोमोबाइल बाजार में प्रवेश करने के लिए तैयार है। नियामकीय सूचना के अनुसार कंपनी ने टेस्ला इंडिया मोटर्स एंड एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड का बेंगलुरु में रजिस्ट्रेशन कराया है। कंपनी का रजिस्ट्रेशन एक लाख रुपए की चुकता पूंजी के साथ एक असूचीबद्ध निजी संगठन के रूप में किया गया है।