हरियाणा |में विदेश से 1243 लोग लौटे हैं। सबसे अधिक वापसी फरीदाबाद और गुरुग्राम में हुई है। अब विदेश से लौटते वक्त अगर गलत जानकारी दी तो इसे अपराध की श्रेणी में रखा जाएगा। ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर प्रदेश में सरकार विदेश से आने वालों पर नजर रख रही है।

दुनिया के कई देशों में ओमिक्रॉन की दस्तक के बाद हरियाणा सरकार ने भी केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन को सख्ती से लागू करने का निर्देश जारी कर दिया है। इसके तहत अब विदेश से आने वाले यात्रियों के घोषणा पत्र में गलत जानकारी होने पर इसे अपराध माना जाएगा। सरकार ने इसके लिए सभी डीसी को पत्र जारी कर दिया है। हरियाणा में पिछले एक सप्ताह में 1243 यात्री विदेश से चुके हैं। इनमें सबसे अधिक गुरुग्राम, फरीदाबाद के लोग हैं। इनमें से कई यात्री ऐसे हैं, जो ओमिक्रॉन को लेकर उच्च जोखिम वाले देशों से लौटे हैं।

ओमिक्रॉन को लेकर हरियाणा सरकार ने टेस्टिंग संख्या बढ़ा दी है और इसे 40 हजार रोजाना का लक्ष्य रखा है। वहीं, विदेश से आने वाले यात्रियों का रिकॉर्ड एयरपोर्ट अथॉरिटी द्वारा प्रदेश को भेजा जा रहा है। एयरपोर्ट पर ही यात्रियों की टेस्टिंग की जा रही है और वहां से निगेटिव आने वाले यात्रियों को बाहर जाने दिया जाता है और शेष को आइसोलेट किया जा रहा है। इन यात्रियों की सूची के अनुसार हरियाणा स्वास्थ्य विभाग की टीमें लगातार इनसे संपर्क साध रही हैं।

विभाग की टीमें इनके स्वास्थ्य को लेकर जानकारी हासिल कर रही हैं और इसकी रिपोर्ट आला अधिकारियों को भेज रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की निदेशक और आईडीएसपी (इंटीग्रेटेड डीजीज सर्विलांस प्रोजेक्ट) की नोडल अधिकारी डॉ. उषा गुप्ता ने कहा कि प्रदेश में अब तक ओमिक्रॉन का कोई केस सामने नहीं आया है। विदेश से आने वाले यात्रियों से टीमें लगातार संपर्क साध रही हैं।