गाजियाबाद |  के लोनी में पिता-पुत्र की हत्या उनके नौकर ने ही की थी। हत्यारोपी रात में उन्हीं के घर में सोया था और सुबह नींद से जागने पर पैसों के लालच में चाकू से गोदकर पिता-पुत्र की हत्या कर दी थी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त चाकू, पंखे की मोटर व खून से सने कपड़े व घर से लूटे गए 12 हजार रुपये आदि बरामद कर लिए हैं।

एसपी देहात डॉ. ईरज राजा ने बताया नईमुल हसन व उनके बेटे उवेश की हत्या उनकी दुकान पर काम करने वाले नौकर मो. मेरोज पुत्र चांद कमर ने ही की थी। मेरोज मूलरूप से ग्राम मिर्जापुर सोहरा थाना बिल्सी जनपद बदायूं का रहने वाला है तथा गत करीब पांच माह से नईमुल हसन की खिड़की-दरवाजों की दुकान पर नौकरी कर रहा था तथा रात में दुकान पर ही सोता था।

वारदात के कुछ दिन पूर्व नईमुल की पत्नी अपने तीन बच्चों को लेकर रिश्तेदारों के यहां शादी समारोह में शरीक होने बिहार चली गई थी। मेरोज को पता था कि नईमुल और उसका बेटा घर में अकेले हैं और पैसे भी घर में रखे रहते हैं। मेरोज ने पैसों के लालच में नईमुल पर हमले की योजना बनाई। 15 सितंबर की रात 9.30 बजे मेरोज कर्दमपुरी दिल्ली जाने के बहाने गोदाम से निकलकर नईमुल के घर पहुंच गया और रात में वहीं पर सो गया। सुबह तीन बजे नईमुल नींद से उठकर टॉयलेट चला गया, इसी दौरान मेरोज घर में पहली मंजिल पर बने कमरे में रखे पंखे की मोटर व चाकू ले आया। कुछ देर बाद नईमुल टॉयलेट से आकर दोबारा सो गया। इसी दौरान मेरोज ने उसके सिर पर पंखे से वार कर उसे बेहोश कर दिया तथा चाकू से उसके पेट व गले पर ताबड़तोड़ वार कर मौत के घाट उतार दिया। वारदात के दौरान उवेश नींद से जाग गया और उसे पहचान लिया।

इसके बाद उसने उवेश को भी चाकू से गला रेतकर मार डाला तथा उसके पेट पर भी चाकू से कई वार किए। पिता-पुत्र की हत्या के बाद उसने अलमारी में रखे 15 हजार रुपये और नईमुल का मोबाइल लूट लिया और चाकू, मोबाइल, खून से सने कपड़े आदि गोदाम में अलग-अलग स्थान पर छिपाकर रख दिए।