पत्रकार वो है जो समाज मे देखता है , अनुभव करता है अपने ज्ञान के आधार पर उसका विश्लेषण करता है , फिर उसे सार्वजनिक मंच पर लाता है इस प्रकिया में जन उपयोगी मुद्दो को उभारने में उसकी सक्रीय भूमिका होनी चाहिये । गण और तंत्र के बीच सवांद की कड़ी है पत्रकार । लेकिन इस प्रक्रिया मे उसे रोचकता लानी पड़ती है और ये रोचकता वैध तरीके से नही आती है क्योकि इसके लिये पर्याप्त रचनात्मकता चाहिये जो अधिक मेहनत और कुशल लेखको का काम है, लेकिन कुकरमुत्तो की तरह उग आई 'पत्रकारिता की डिग्रियो की दुकाने " किसी को भी डिग्री तो दे दे्ती है लेकिन उसे पत्रकार नही बनाती ' ये डिग्रीधारी पढा लिखा आदमी समाज और व्यवस्था की समझ भी विकसित नही कर पाता ना उसे लेखन और साहित्य की समझ होती है।

समाज में अब हर काम के लिये शार्टकट तरीके ' अपनाने का चलन है, फिर चाहे वो अनुचित ही क्यो ना हो। अब मौलिक लेखन /साहित्य आदि के प्रति जनरुझान न के बराबर होता है फिर  खब मे रोचकता लाने के लिये आसान विकल्प अपनाया जाता है , आटे मे नमक के तौर पर हास्य/ग्लैमर /सनसनी का प्रयोग किया जाता है , धीरे धीरे ये 'नमक' का स्वाद ' नमकीन' होकर लोगो को इतना भाता है कि मूल खबर लापता हो जाती है , फिर खबर के ये  ' सह उत्पाद' ही ' मूल उत्पाद' की शक्ल लेने लगते है , और वर्तमान में यही हो रहा है।

लोगो को 'सनसनी' पसन्द है तो पत्रकार उसे ही परोसने दौड़ता है क्योकि अगर पत्रकार दिन भर ये दिखाता रहे ' देखो ये हो रहा है" यहां गलत हुआ है , अपराध हुआ है सरकार को ऐसा करना चाहिये " किसान गरीब /मजदूर / आदिवासी पर जुल्म , हिंसा /अपराध/ बलात्कार फलां फला तो आप उठकर टीवी बन्द कर दोगे और अखबार फेंक दोगे क्योकि आपको दर्द हुआ , बैचेनी हुई समाज में ये क्या हो रहा है , आप झुझलाहट से भर जाते है , फिर आपको 'मजा' चाहिये , खबर में भी 'आनन्द चाहिये ' आप खबर ग्लैमर/हास्य/सनसनी वाले 'सह उत्पाद' को ही 'मूल उत्पाद' बना देते हो ।

इन्हे ही बेचकर पत्रकार और मीडिया हाउस इन्हे ही बेचकर पैसे कमाने लग जाते है, इस प्रक्रिया मे लोग भी खुश और मीडिया भी खुश। क्योकि खबर अब समाज में विचार करने का प्रश्न नही 'रोचकता ' और' मनोरजंन की विषय वस्तु हो गई है।
एक बड़ा कारण प्रचार माध्यमों को 'खबरे दिखाने के अतिरिक्त' विभिन्न कम्पनियो और मनोरजंन के 'उत्पाद' का भी विज्ञापन करना होता है।
ये 'आनन्ददायक' विज्ञापन ' खबरो की गुणवत्ता को बुरी तरह प्रभावित करते है।

पत्रकार क्यो अपने पेशे भटक जाता है:…

" ये दुनिया बड़ी जालिम है सत्य का तलबगार नही कोई " शुरुआत में सब सत्य लिखते है कोशिश करते है समाज के अप्रिय सत्य को उजागर करने की परन्तु जड़ समाज और संवेदनहीन तंत्र का तीव्र प्रतिकार होता है। आय के जरिये सीमित हो जाते है , ऐसे में टिके रहना अक्सर मुश्किल होता है । फिर ' मीडिया मुगलो' की गुलामी और 'मनसबदारी" का लालच।
कुल मिलाकर हम ये कह सकते है कि ' पत्रकारों को बिकाऊ कहने से पहले समाज अपना गिरेबान टटोले तो बेहतर होगा कि क्यो पत्रकारिता के मूल्य समझने वाला ईमानदार पत्रकार दर दर मारा फिरता है "

न्यूज़ सोर्स : Bhupndra Singh Ke Facebook wall Se