जयपुर. कोरोना महामारी (COVID-19) की मार के चलते जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Jaipur International Airport) को 2 हिस्सों में बांटने के ड्रीम प्रोजक्ट पर ब्रेक लग गए हैं. जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट को 2 हिस्सों में बांटने का काम पिछले एक साल से ज्यादा समय से चल रहा है. मार्च के अंत तक यह काम पूरा होने वाला था, लेकिन कोरोना के कारण इस पर भी बैरियर लग गए हैं.

3 बार तारीखों को आगे बढ़ाया जा चुका है

योजना के मुताबिक यह काम पूरा हो जाने के बाद जयपुर एयरपोर्ट पर टर्मिनल 2 को डोमेस्टिक एयरपोर्ट रखा जाएगा और हज टर्मिनल को इंटरनेशनल एयरपोर्ट के रूप में काम लिया जाएगा. मार्च अंत तक इंटरनेशनल एयरपोर्ट को सेपरेट किया जाना था. हालांकि ये काम पहले भी निजी कंपनी बेहद धीमे कर रही थी, लेकिन अब कोरोना और लॉकडाउन के चलते इसे पूरी तरह से रोक दिया गया है. पूर्व में भी इस काम को पूरा करने के लिए 3 बार तारीखों को आगे बढ़ाया जा चुका है.

टर्मिनल 2 पूरी तरह से घरेलू उड़ानों को लिए रहेगा


जयपुर एयरपोर्ट के टर्मिनल 2 से ही फिलहाल डोमेस्टिक और इंटरनेशनल फ्लाइट्स उड़ान भरती हैं. चालू योजना के मुताबिक हज टर्मिनल के इंटरनेशनल एयरपोर्ट में तब्दील हो जाने के यहां से बाद न केवल हज यात्रा शुरू होगी, बल्कि बैंकाक, दुबई, ओमान और शारजहां की उड़ानें भी यहीं से संचालित होगी. टर्मिनल 2 पूरी तरह से घरेलू उड़ानों को लिए रहेगा. एयरपोर्ट पर भविष्य में बढ़ने वाली उड़ानों के चलते नए एप्रन भी बना लिए गए हैं.

अभी तक किसी नई तारीख का ऐलान नहीं

डोमेस्टिक और इंटरनेशनल अलग होने से ज्यादा फ्लाइट्स और ज्यादा डेस्टिनेशन जयपुर से जुड़ सकेंगे. लेकिन वर्तमान हालात के चलते ये योजना फिलहाल दूर की कौड़ी नज़र आ रही है. लॉकडाउन ने इस काम को और आगे बढ़ा दिया है. एयरपोर्ट ऑथिरिटी ने अभी तक किसी नई तारीख का ऐलान नहीं किया है. लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि लॉकडाउन खुलने के बाद भी इस काम में अभी 6 महीने का और वक्त लग सकता है.