दौसा. खेत में बने गहरे गड्ढे में डूबने से दो बच्चों की मौत (Death) हो गई. यह हादसा दौसा (Dausa) जिले के रलावता ग्राम पंचायत के रानीवास गांव में आज हुआ. जैसे ही बच्चों के डूबने की सूचना प्रशासन को मिली तो एसडीआरएफ और प्रशासन की टीमें मौके पर पहुंचीं और रेस्क्यू ऑपरेशन (Rescue Operation) शुरू किया गया. कई घंटों की मशक्कत के बाद दोनों बच्चों के शव बाहर निकाले जा सके.

4 घंटे बाद मिली दूसरे बच्चे की लाश
हालांकि अभिषेक नाम के बच्चे का शव 1 घंटे में ही निकाल लिया गया था, जिसे अस्पताल के मुर्दाघर में शिफ्ट करवा दिया था. वहीं दूसरे बच्चे को ढूंढ़ने में करीब 4 से 5 घंटे का समय लगा. जैसे ही दूसरा बच्चा मिला तो ग्रामीणों ने शव को अस्पताल नहीं ले जाने दिया और हंगामा शुरू कर दिया. ग्रामीणों के हंगामे की सूचना पर एसडीएम पुष्कर मित्तल, डीएसपी नरेंद्र कुमार सहित पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों से समझाने की कोशिश की, लेकिन ग्रामीण नहीं मानें. उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे निर्माण के लिए खेतों की खुदाई करके गड्ढे बना दिए गए हैं, जिससे इस तरह के हादसे हो रहे हैं. ग्रामीणों का कहना था कि अधिक गहराई का गड्ढा खोदना अनुचित है और यह नियम विरुद्ध खोदे गए हैं. ऐसे में जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो और दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे के अधिकारियों को मौके पर बुलाया जाए. इसी मांग को लेकर ग्रामीण अड़े रहे और राहुल नामक बच्चे का शव अस्पताल नहीं ले जाने दिया.

मुआवजा और कार्रवाई के आश्वासन के बाद थमा हंगामा
राहुल का शव को निकलने के बाद ग्रामीण उसे लेकर मौके पर ही बैठ गए और दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे के अधिकारियों को बुलाने की मांग पर अड़ गए. करीब 4 घंटे तक प्रशासन और ग्रामीणों के बीच तकरार होती रही. इस दौरान प्रशासन के अधिकारी ग्रामीणों समझाते नजर आए. आखिरकार जिम्मेदार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने और मृतकों के परिजनों को उचित मुआवजा दिलवाने के आश्वासन के बाद ग्रामीण शांत हुए. इसके बाद दूसरे को भी जिला अस्पताल में शिफ्ट किया गया, जहां दोनों शव का पोस्टमार्टम करवाया गया. पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव को परिजनों के सुपुर्द कर दिया.