अहमदाबाद | गुजरात के पुलिस महानिदेशक शिवानंद झा ने राज्य में बढ़ते कोरोना संक्रमण रोकने के लिए लॉकडाउन को और सख्ती से अमल करने के साथ ही क्लस्टर कोरन्टाइन इलाकों में सर्वेलन्स, पुलिस फूट पेट्रोलिंग और मोटर साइकिल पेट्रोलिंग बढ़ाने का आदेश दिया है| साथ ही उन्होंने नागरिकों से घर में रहकर सोशल डिस्टन्सिंग का जागरूकता से पालन करने का अनुरोध किया है|
पुलिस महानिदेशक ने कहा कि गुजरात में खासकर अहमदाबाद में जिस तेजी से कोरोना संक्रमित मामले बढ़ रहे हैं, उसे देखते हुए लॉकडाउन का सख्ती से अमल करना जरूरी हो गया है| क्राइम ब्रांच और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) को भी गश्त में जोड़ा जाएगा और शहर के क्लस्टर कोरन्टाइन क्षेत्रों में पुलिस की मदद से स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगों के स्वास्थ्य जांच का काम तेज किया जाएगा| स्वास्थ्य कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त पुलिस बल उपलब्ध करवाया गया है| शिवानंद झा ने इस बात को लेकर चिंता जाहिर की है कि कोरोना के पॉजिटिव केसों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है, इसके बावजूद कई लोग सुबह वॉकिंग-जोगिंग या आवश्यक चीजवस्तुओं की खरीदी के बहाने घर से बाहर निकल कर सोशल डिस्टन्सिंग का उल्लंघन कर रहे हैं| अब ऐसा कोई व्यक्ति पकड़ा जाता है तो उसके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा| उन्होंने कहा कि आवश्यक चीजवस्तुओं के नाम पर लॉकडाउन की व्यवस्था में छूट पाने वाले लोग भी उन्हें मिली छूट का दुरुपयोग कर रहे हैं| ऐसा ही एक मामला पूर्वी अहमदाबाद के नरोडा में सामने आया है| जिसमें नरोडा पुलिस थानान्तर्गत एक निजी एम्ब्युलैंस से देशी शराब की तस्करी पकड़ी गई है| पुलिस महानिदेशक ने बताया कि दिल्ली के मरकज लौटे 127 लोगों की पहचान करने के बाद उनका टेस्ट किया जा चुका है| जिसमें एक और पॉजिटिव केस के साथ जमातियों में पॉजिटिव केसों की संख्या 12 पर पहुंच गई है| इसके अलावा अन्य सभी को कोरन्टाइन किया गया है| इसके अलावा सूरा ग्रुप के लोगों के परीक्षण और जांच की जा रही है| इसी के  साथ पुलिसकर्मियों की स्वास्थ्य की जा रही है और अब तक एलआरडी, जीआरडी व पुलिस स्टाफ समेत करीब 90000 जवानों की स्वास्थ्य जांच की जा चुकी है| ज्यादातर मामलों में कोई गंभीर बीमारी के लक्षण नहीं मिले| उन्होंने बताया कि अहमदाबाद डी स्टाफ के एक एएसआई में कोरोना के लक्षण पाए जाने पर उन्हें फिलहाल अहमदाबाद के एसवीपी अस्पताल में कोरन्टाइन किया गया है| झा ने बताया कि छोटे-बड़े शहरों में ड्रोन सर्वेलन्स की कार्यवाही तेज की गई है| ड्रोन सर्वेलन्स से 452 मामले दर्ज किए गए हैं| ड्रोन सर्वेलन्स से आज तक 3017 मामले दर्ज कर 7049 लोगों को हिरासत में लिया गया है| जबकि स्मार्ट सिटी और विश्वास प्रोजेक्ट के तहत सीसीटीवी नेटवर्क के जरिए आज तक 460 मामले दर्ज कर 909 लोगों को राज्यभर में गिरफ्तार किया गया है| इसी प्रकार सोशल मीडिया के माध्यम से फर्जी मैसेज और अफवाह फैलाने के संदर्भ में अब तक 149 मामले दर्ज कर 273 आरोपियों को पकड़ा जा चुका है| 8 अप्रैल तक अधिसूचना के उल्लंघन के कुल 2956 मामले, कोरन्टाइन उल्लंघन के 873 और 337 अन्य मामलों समेत कुल 6265 आरोपियों को हिरासत में लिया गया है| साथ ही अब तक 4163 वाहनों को जब्त किया जा चुका है|