मध्यप्रदेश के खंडवा में भूमि नामांतरण के नाम पर सेवानिवृत्त शिक्षक से चार हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए पटवारी राजेश धात्रक को मंगलवार को लोकायुक्त पुलिस इंदौर ने उसी के घर में पकड़ लिया। जब आरोपी ने लोकायुक्त पुलिस को देखा तो वह रिश्वत की राशि को चबाने लगा और हाथों को मिट्टी में रगड़ने की कोशिश की, ताकि सबूतों को मिटा सकें। लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं होने दिया, उन्होंने पटवारी की पीठ और पेट में घूंसे मारकर 500-500 के आठ नोट बाहर निकलवा लिए और कोतवाली लेकर पहुंचे। लोकायुक्त निरीक्षक विजय चौधरी ने बताया कि केंद्रीय विद्यालय के सेवानिवृत्त शिक्षक मांगीलाल प्यासे की गांव में कृषि भूमि है। उन्होंने नामांतरण के लिए पटवारी राजेश धात्रक से संपर्क किया था। जिसके बाद उसने आठ हजार रुपये रिश्वत की बात कही थी। 

पुलिस ने कहा कि मामला दर्ज कर लिया गया है और इस संबंध में आरोपी के ऊपर उचित कार्रवाई की जाएगी।