महाराष्ट्र सरकार वन विभाग को बाघों को चंद्रपुर से राज्य के किसी अन्य भाग में स्थानांतरित करने पर विचार कर रही है। ताकि मानव और वन्यजीव के बीच संघर्ष के मामलों को कम किया जा सके। महाराष्ट्र के वन मंत्री संजय राठौड़ ने बताया कि राज्य में इस समय करीब 312 बाघ हैं जिनमें से 160 केवल चंद्रपुर में हैं। इसके अलावा 12 बाघ जिले के पांच किलोमीटर के दायरे में हैं। राठौड़ ने कहा कि ‘‘मानव और वन्यजीव के बीच संघर्ष की घटनाएं कम करने के लिए मैंने वन विभाग से चंद्रपुर से बाघों को अन्य क्षेत्रों में स्थानांतरित करने की व्यवहार्यता का पता लगाने के लिए अध्ययन करने को कहा है।’’ इस सिलसिले में मंत्री ने नागपुर में वन अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी। प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यजीव) नितिन काकोडकर ने कहा कि चंद्रपुर में बाघों की संख्या बढ़ गई है और उनके हमले में मनुष्यों की मौत की घटनाएं भी बढ़ी हैं। उन्होंने कहा कि ‘‘चंद्रपुर में अगले साल 60 बाघ शावक और बढ़ जाएंगे। हमें उनकी संख्या के प्रबंधन के बारे में सोचना होगा इसलिए उनमें से कुछ को स्थानांतरित करने के प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है।’