पटना । कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रवासियों को लॉकडाउन के डर सताने लगा है। ऐसे में एक बार फिर अन्‍य राज्‍यों में मजदूरी कर रहे प्रवासी बिहार की ओर पलायन करने लगे हैं। बोरे में कपड़े, झोले में जरूरत के सारे सामान और चेहरे पर हताशा लिये देहरादून में मजदूरी करने वाले मदन राम बताते हैं कि वह देहरादून में राजमिस्त्री का काम करते हैं। तीन बच्चों और पत्नी के साथ देहरादून में रह रहे थे। पिछले साल लॉक डाउन खत्म होने के बाद नवम्बर में देहरादून गये थे। सोचा था कि अब जिन्दगी पटरी पर लौट आएगी। लेकिन जैसे ही होली का समय आया, दोबारा कोरोना संक्रमण की लहर से वे सहम गये। उनके साथ मुजफ्फरपुर के ही लगभग चार परिवार और बस स्टैंड पहुंचे थे। धीरे-धीरे यह संख्या बढ़ती ही जा रही है। राजधानी के मीठापुर बस स्टैंड में बाहर से आने वाले यात्रियों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। शाम होने के बावजूद कई लोग निजी वाहन बुक करके घर को जाते दिख रहे हैं। इसके बावजूद बस स्टैंड में कोरोना से लड़ने का कोई इंतजाम नहीं दिख रहा है। न तो कोई स्क्रीनिंग की व्यवस्था है और न मास्क चेक करने की।  वहीं,  हरियाणा के एक निजी कंपनी में काम करने वाले मनोज भी सोमवार को ट्रेन से पटना पहुंचे। पूर्णिया जाने के लिए वह बस स्टैंड आए हुए थे। मनोज ने बताया कि अभी तो जिन्दगी ने रफ्तार पकड़नी शुरू की थी, फिर से कोरोना डराने लगा है। लॉकडाउन के डर से परिवार वालों ने घर लौटने को कहा है। उनके पास घर लौटने को पैसे भी नहीं थे। मजबूरी में दोस्तों से कर्ज लेकर ट्रेन पकड़े। दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले दीपक भी घर लौट गये हैं। उन्हें मोतिहारी जाना है