मास्टर दीनानाथ मंगेशकर स्मृति प्रतिष्ठान ने यहां दीनानाथ मंगेशकर नाट्यगृह, विले पार्ले में प्रतिष्ठित दीनानाथ मंगेशकर पुरस्कार और ट्रस्ट के अन्य पुरस्कारों के साथ संगीत, नाटक, कला और सामाजिक कार्य के क्षेत्र के दिग्गजों को सम्मानित किया। इस समारोह की शान रहे अभिनेता नाना पाटेकर जिन्हें एक विशेष पुरस्कार से गौरान्वित किया गया। इस वर्ष, संगीत और कला के लिए मास्टर दीनानाथ मंगेशकर पुरस्कार (जीवन गौरव पुरस्कार) संगीतकार प्यारेलाल शर्मा (लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल) को भारतीय संगीत और सिने उद्योग के लिए उनकी समर्पित सेवा के लिए प्रदान किया गया जबकि अनुभवी गीतकार उषा मंगेशकर को उनके योगदान के लिए दीनानाथ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। दीनानाथ विशेष पुरस्कार संगीत के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए अनुभवी गायिका संगीतकार मीना मंगेशकर खादीकर को और सिनेमा के क्षेत्र में उनकी समर्पित सेवाओं के लिए प्रेम चोपड़ा को दिया गया पुरस्कृत किया गया।

दिग्गज अभिनेता नाना पाटेकर को थिएटर और सिनेमा के लिए उनकी जीवन भर की सेवा के लिए एक योग्य दीनानाथ विशेष पुरस्कार मिला जबकि सांसद, राज्यसभा और सामना के संपादक, संजय राउत को संपादकीय के क्षेत्र में उनकी समर्पित सेवा के लिए सम्मानित किया गया। माला सिन्हा को सिनेमा के क्षेत्र में उनकी उत्कृष्ट अदाकारी और निष्ठा सेवा के लिए सम्मानित किया गया। साहित्य के लिए वाग्विलासिनी पुरस्कार संतोष आनंद को दिया गया, जबकि कवयित्री नीरजा को कविता और साहित्य में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया। डॉ.प्रतीत समदानी, डॉ. राजीव शर्मा, डॉ.जनार्दन निंबोलकर, डॉ. अश्विन मेहता, डॉ. निशित शाह और डॉ.समीर जोग को चिकित्सा और स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में उनकी समर्पित सेवाओं के लिए सम्मानित किया गया।

इस मौके पर हृदयनाथ मंगेशकर ने कहा, "मास्टर दीनानाथजी का गायन, संगीतकार और मंच कलाकारों के रूप में महत्वपूर्ण योगदान महाराष्ट्र और भारत के लोगों के लिए प्रेरणा रहा है। मंगेशकर परिवार अपने किंवदंतियां बन चुके लोगों को सम्मानित करने के लिए मास्टर दीनानाथ मंगेशकर स्मृति प्रतिष्ठान पुरस्कार आयोजित करता है। हमें खुशी है कि हमें जनता का प्यार और समर्थन मिला है।

मास्टर दीनानाथ मंगेशकर स्मृति प्रतिष्ठान पुणे में स्थित एक पंजीकृत पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट हैं जो 31 सालों से संगीत, कला, रंगमंच और सामाजिक क्षेत्र में महारत हासिल कर चुके लोगों को सम्मानित करता हैं। पिछले दो वर्षों से विश्वव्यापी महामारी के कारण ये अवार्ड समारोह अप्रैल में संभव नहीं हो सका इसलिए मंगेशकर परिवार ने इस वर्ष इसे 24 नवंबर, 2021 को इसे करने का निर्णय लिया। पुरस्कार समारोह के बाद डॉ राहुल देशपांडे द्वारा प्रस्तुत एक मनोरंजक संगीत कार्यक्रम का आयोजन किया गया।