सोहना रोड हाईवे पर हरियाणा का दूसरा सबसे लंबा एलिवेटिड फ्लाई ओवर के निर्माण में कंपनियां लापरवाही बरत रही हैं। पहली बार स्पाइन सेग्मेंट टैक्नोलॉजी पर बनाए जा रहे इस फ्लाई ओवर पर ऊपर काम चल रहा है और नीचे से ट्रैफिक गुजर रहा है। जिससे कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। इसके नीचे कई जगह बैरिकेडिंग नहीं है, जिससे गाड़ियों पर कभी भी कोई भारी भरकम लोहा या कांक्रीट गिरने का डर बना हुआ है। वहीं एनएचएआई के अधिकारियों का कहना है कि बादशाहपुर बाजार में जगह कम होने के कारण कई जगह बैरिकेडिंग करना संभव नही है। ऐसे में ऐसे ही निर्माण कार्य करना पड़ रहा है।
बादशाहपुर के नजदीक एलिवेटिड फ्लाई ओवर पर स्पाइन डाला जा चुका है और अब विंग जोड़े जा रहे हैं। स्पाइन में अब दोनों तरफ 8.5-8.5 मीटर के विंग जोड़कर इसे चौड़ा किया जा रहा है। इसकी खासियत यह होगी कि इसके नीचे का रोड डिस्टर्ब नहीं होगा और इसके नीचे भी सिक्सलेन रोड पर ट्रैफिक निर्बाध फर्राटे भर सकेगा। लेकिन इसके नीचे बादशाहपुर में गाड़ियां खड़ी की जा रही हैं। जबकि करीब 13 महीने पहले 22 अगस्त 2020 को सुभाष चौक के नजदीक पिल्लर नंबर 10-11 के बीच का स्पाइन नीचे गिर चुका था। हालांकि इस हादसे में रात का समय होने के कारण कोई हताहत नहीं हुआ था लेकिन बादशाहपुर बाजार होने के कारण कभी भी कोई बड़ा हादसा होने का खतरा बना हुआ है। इससे पहले सुभाष चौक के पार स्पाइन गिरने के बाद एनएचएआई के अधिकरियों ने ओरिएंटल कंपनी पर 50 लाख रुपए का जुर्माना लगाया था बिना बैरिकेडिंग काम करने पर पाबंदी लगा दी थी। लेकिन इसके बावजूद भी कंपनी द्वारा इसी तरह की लापरवाही बरती जा रही है।