अहमदाबाद के हाथीजन इलाके में स्थित डीपीएस स्कूल में चलने वाले नित्यानंद आश्रम मामले में अब स्कूल की मान्यता रद्द की जा सकती है.
अहमदाबाद के हाथीजन इलाके में स्थित डीपीएस स्कूल में चलने वाले नित्यानंद आश्रम मामले में अब स्कूल की मान्यता रद्द की जा सकती है. डीपीएस स्कूल ने सीबीएसई से मान्यता हासिल करने के लिए गुजरात सरकार की फर्जी एनओसी जमा कराई, इस बात का खुलासा शिक्षा विभाग के सचिव विनोद राव की जांच में हुआ है.

बताया जा रहा है कि सीबीएसई इस मामले को लेकर रविवार को कोई बड़ा फैसला ले सकती है. इससे पहले डीपीएस स्कूल के संचालक मंजुला पूजा श्रॉफ ट्रस्टी और प्रींसिपल के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है.

नित्यानंद के आश्रम में लड़कियों को अगवा कर रखने और उनके गायब होने के मामले को लेकर गुजरात हाई कोर्ट में केस चल रहा है. वहीं, पुलिस ने डीपीएस स्कूल के खिलाफ झूठे दस्तावेज जमा करने की वजह से कार्रवाई की है.

डीपीएस स्कूल संचालक मंजुला पूजा श्रॉफ, प्रिंसिपल अनीता दुआ, ट्रस्टी हितेन वसंत के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया गया है, लेकिन दूसरी ओर कैलोरेक्स के अमिताभ शाह के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई.

शिक्षा विभाग ने पहले ही स्कूल की मान्यता को रद्द करने के लिए सीबीएसई से सिफारिश की है. इतना ही नहीं गलत दस्तावेज प्रस्तुत करने के मामले में स्कूल संचालकों के खिलाफ आपराधिक मामला भी दर्ज करवाया गया है.

इस मामले को लेकर रविवार को बोर्ड कोई बड़ा फैसला सुना सकती है.

गौरतलब है कि अहमदाबाद के हाथीजन इलाके में स्थित स्कूल में ही नित्यानंद का आश्रम चलता है. पुलिस का कहना है कि नित्यानंद अश्रम के बच्चों का एडमिशन इसी स्कूल में था लेकिन बच्चे स्कूल में नहीं आश्रम के काम में और चंदा इक्कठा करने में लगे रहते थे.