नई दिल्ली । भारतीय मुक्केबाज अमित पंघल को उम्मीद है कि वह आगामी टोक्यो ओलंपिक में दो स्वर्ण पदक जीतने में सफल रहेंगे। भारतीय मुक्केबाजों ने ओलंपिक खेलों के सभी संस्करणों में अब तक केवल दो कांस्य पदक ही जीते हैं। इनमें विजेंदर सिंह ने 2008 बीजिंग ओलंपिक में और मैरी कॉम ने 2012 के लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीते थे। पंघल ने कहा कि पिछले कुछ समय के अंदर भारतीय मुक्केबाजों का प्रदर्शन पहले से बेहतर हुआ है। भारतीय खिलाड़ियों ने राष्ट्रमंडल, एशियाई और विश्व चैंपियनशिप जैसे मुकाबलों में स्वर्ण पदक जीते हैं। पंघल ने टोक्यो ओलंपिक के लिए अपनी तैयारियों को लेकर कहा कि इस समय उनका मुख्य लक्ष्य एशियन ओलंपिक क्वालीफायर पर लगा हुआ है, जिसका आयोजन फरवरी में चीन के वुहान शहर में होना है।" यह टूर्नामेंट ओलंपिक क्वालीफायर टूर्नामेंट है और पंघल का लक्ष्य इसमें ओलंपिक कोटा हासिल करना है। पंघल ने कहा "टोक्यो ओलंपिक के लिए मैं पूरी तरह से तैयार हूं। सबसे पहले, फरवरी में हमारे सामने ओलंपिक क्वालीफायर्स है और मेरा लक्ष्य उसमें अपना सर्वश्रेष्ठ देना है और ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना है। उन्होंने कहा अन्य खिलाडिय़ों की तरह मेरा भी लक्ष्य है कि मैं ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करूं और पदक जीतूं।"