ग्वालियर वित्तीय तंगी के दौर से गुजर रही प्रदेश सरकार ने शराब से ज्यादा मुनाफा कमाने की तैयारी कर ली है। इसके लिए 1 अप्रैल से फुटकर बिक्री वाली शराब की कीमतों में बढ़ोतरी कर दी जाएगी। देसी से लेकर विदेशी शराब और बीयर में दामों में 20 से 25 प्रतिशत तक इजाफा किया जा सकता है।
 दूसरे राज्यों  तुलना में मप्र में पहले से ही शराब महंगी बिक रही है। पिछले कई वर्षों से सरकार लगातार शराब से दामों में वृद्धि  करती आ रही है। वहीं नए वित्तीय वर्ष 2020-21 में भी शराब से ज्यादा मुनाफा कमाने पर सरकार का पूरा फोकस बना हुआ है। यही बजह है कि नई आबकारी नीति में बदलाव कर ऐसे प्रावधान लाए जा रहे,जिनसे शराब बिक्री से मिलने वाले राजस्व को बढ़ाया जाए। इसके तहत शराब ठेकों की लाइसेंस फीस में इजाफा किया जाएगा। नई आबकारी नीति का जो मसौदा तैयार करने बिभाग के अफसरों की बैठकों का दौर चल रहा है। अभी तक जो विचार मंथन हुआ है उसके हिसाब से नीति फाइनल हुई तो 20 से 25 % तक शराब ठेके महंगे किए जाएंगे। इस बार ठेकों का रिन्यूवल करने की मंशा नहीं है। विभागीय सूत्रों के अनुसार नए साल के लिए आॅनलाइन टेंडर का फिर आॅनलाइन आॅक्शन के जरिये शराब दुकानों का निष्पादन किया जाएगा। आबकारी अफसर यह दोनों ही विकल्प शासन के समक्ष रखेंगे। जिसमें से कैबिनेट की उप समिति फाइनल करके मुख्यमंत्री के पास प्रस्ताव मंजूरी के लिए भेजेगी। बात दें कि शराब ठेकों की फीस में इजाफा होते ही फुटकर बिक्री की शराब बोतलों के दामों में भी वृद्धि कर दी जाएगी। इसके बाद सुरा प्रेमियों को शराब सेवन करने पहले से ज्यादा जेब ढीली करना होगी।