श्रीनगर । जम्मू कश्मीर की जनता के बीच अपनापन जताते हुए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने दौरे के तीसरे और अंतिम दिन श्रीनगर में सोमवार को एक जनसभा बुलेट प्रूफ ग्लास शील्ड हटवाई और फिर कहा कि आप लोगों से खुलकर बात करना चाहता हूं। उन्होंने आगे कहा कि मैं पाक से नहीं आप लोगों से बात करना चाहता हूं।
आज केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह जम्मू कश्मीर दौरे का तीसरा दिन है। वे सोमवार को श्रीनगर पहुंचे। यहां उन्होंने जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान पहले उन्होंने जम्मू कश्मीर में भाजपा सरकार की ओर से दी जा रही विकास परियोजनाओं का जिक्र किया। अमित शाह ने कहा कि घाटी आगे आने वाले दिनों में भारत को विश्व शक्ति बनाने में मदद करेगा।
अपने संबोधन के दौरान उन्होंने मंच से बुलेट प्रूफ ग्लास शील्ड हटाई। फिर कहा, "मुझे बहुत ताने सुनाए गए। बहुत बोला गया। बहुत कड़े शब्दों में बोला गया। लेकिन मैं आज आप लोगों के साथ खुलकर बात करना चाहता हूं। इसलिए मैं बिना बुलेट प्रूफ ग्लास के आप लोगों से बात कर रहा हूं।"
नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष और जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला के बारे में बोलते हुए अमित शाह ने कहा, "मैंने अखबार में पढ़ा। फारूख साहब ने मुझे सलाह दी है कि भारत सरकार को पाकिस्तान से बात करनी चाहिए। खैर फारूख साहब वरिष्ठ व्यक्ति हैं, मुख्यमंत्री रह चुके हैं। लेकिन मैं फारूख साहब से कहना चाहता हूं कि मैं बात करुंगा तो घाटी के लोगों से बात करूंगा। घाटी के युवाओं से बात करुंगा। मैं क्यूं न बात करुं आपसे। हम चाहते हैं कि हम आपसे बात करें। मैं घाटी के युवाओं से दोस्ती करना चाहता हूं। घाटी के युवाओं के साथ बात करना चाहता हूं।"