दिल्ली मानसरोवर पार्क इलाके में पिस्टल के बल पर कारोबारी से हुई 1.70 लाख रुपये लूट की गुत्थी को पुलिस ने एक माह बाद सुलझा लिया है। पुलिस ने लूट में शामिल दो बदमाशों को गिरफ्तार किया है। बदमाशों की पहचान शाहदरा छोटा बाजार के मेहराम मोहल्ला के रहने वाले आशीष और कल्याणपुरी के रहने वाले शशांक उर्फ सचिन उर्फ काला के रूप में हुई है। वारदात में शामिल इनका तीसरा साथी मंजीत उर्फ ठग्गी किसी दूसरे मामले में मंडोली जेल में बंद है।

पुलिस उसे भी लूट के मामले में आरोपित बनाएगी। पुलिस ने बदमाशों के पास से चाकू 12 हजार रुपये बरामद किए हैं। इनके बाकी दो साथियों को पुलिस तलाश रही है। जिला पुलिस उपायुक्त आर सत्यसुंदरम ने बताया कि 17 अक्टूबर की रात को नत्थू कालोनी चौक के पास कारोबारी राजीव शर्मा के साथ लूट हुई थी।

वारदात के वक्त पीड़ित अपने कर्मचारी के साथ घर जा रहे थे, जब वह हरदेव पुरी की गली नंबर-6 के पास पहुंचे तभी पीछे से तीन बदमाश आए। उन्हें रोककर उनसे पिस्टल के बल पर बैग लूट लिया। बैग में लैपटाप 1.70 लाख रुपये रखे हुए थे। थानाध्यक्ष प्रशांत यादव के नेतृत्व में एसआई नीतू सिंह अन्य की टीम बनाई। टीम ने सौ से अधिक सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली और डंप डेटा निकाला। उसके जरिये पुलिस आशीष और शशांक तक पहुंची।

जेल में रहकर कई बदमाशों के संपर्क में आया आशीष

पुलिस को जांच में पता चला झपटमारी के एक मामले में आशीष जेल गया था, अगस्त में जमानत पर बाहर आया। जेल में रहने के दौरान वह कई बदमाशों के संपर्क में आया। आशीष मंडोली रोड स्थित एक बर्तन की दुकान पर काम कर चुका था, उसे नत्थू कालोनी चौक के आसपास के शोरूमों की जानकारी थी। पैसों की तंगी होने पर उसने लूट की साजिश रची, उसने अपने साथ शाहिद और शशांक को शामिल किया। आशीष ने शाहिद के साथ मिलकर रेकी की, जबकि शशांक और मंजीत ने तीसरे बदमाश के साथ मिलकर लूट की वारदात की थी। मंजीत कल्याणपुरी का घोषित बदमाश है, उसपर हत्या सहित 50 से अधिक केस दर्ज हैं।