मुंबई। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि राज्य सरकार का एकमात्र लक्ष्य कोरोना संक्रमण को पूरी तरह से हराना है. कोरोना वैक्सीन कब आएगी, इसकी गारंटी नहीं दे सकते। वैक्सीन आने के बाद भी गलतफहमी में रहने से चलने वाला नहीं है। उन्होंने कहा, लॉकडाउन का इस समय कोई जवाब नहीं है। इसके अलावा १७,००० रिक्त पद को भरे जाने की बात भी स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने कही। उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण स्वास्थ्य विभाग को गौण नजर से देखा जाता था। लेकिन कोरोना ने हमारे स्वास्थ्य को देखने के तरीके को बदल दिया है। स्वास्थ्य विभाग पर एक प्रतिशत से भी कम फंड खर्च किया गया था। इसको लेकर लोगों में गुस्सा था। इसलिए सरकार स्वास्थ्य विभाग का फंड बढ़ाने पर सहमत हुई है। कोरोना को पूरी तरह से हराना है। आम आदमी को केंद्रबिंदु के रूप में रखकर नीतियों पर निर्णय लिया गया। अब किसी भी स्थिति में हमें कोविड के साथ गैर-कोविड का ध्यान रखना होगा। एशियन डेवलपमेंट बैंक ने ४,४०० करोड़ रुपए के सॉफ्ट लोन का प्रस्ताव दिया है। हम मातृ और बाल मृत्यु दर को कम करने की कोशिश कर रहे हैं। हम शहरी क्षेत्रों में मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देंगे।