हिन्दू धर्म में पूजा-पाठ के दौरान कपूर का इस्तेमाल किया जाता हैं क्योंकि हिन्दू धर्म में इसे पवित्र माना गया हैं और यदि धार्मिक कार्यों, पूजा-पाठ में कपूर का इस्तेमाल ना किया जाए तो धार्मिक कार्य और पूजा-पाठ अधूरे माने जाते हैं| इसके अलावा कपूर सिर्फ धार्मिक कार्यों से जलाना लाभदायक नहीं होता हैं बल्कि इसके जलाने के वैज्ञानिक कारण भी हैं| बता दें कि कपूर जलाने से वातावरण में मौजूद बैक्टीरिया नष्ट होते हैं और वातावरण शुद्ध रहता हैं| दरअसल आज हम आपको कपूर और पानी के एक उपाय के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे करने से आपके घर के सभी मुसीबतें और दरिद्रता दूर होती हैं|

पानी और कपूर का ये उपाय

इस उपाय को करने के लिए एक तांबे का लोटा या कलश ले , यदि तांबे का लोटा या कलश नहीं हैं तो आप साधारण सा स्टील का ग्लास ले और इसके अंदर स्वच्छ पानी भर दे| अब इसके अंदर आम के पाँच पत्ते ले, यदि आम के पत्ते नहीं हैं तो आप अशोक के पत्ते या फिर पीपल के पत्ते भी ले सकते हैं, अब इसके ऊपर एक नारियल स्थापित करे| अब भगवान गणेश की मूर्ति या तस्वीर के सामने यह कलश रख दे| अब उनके सामने आप अपने जीवन में चल रही सभी समस्याएँ यानि धन या पति-पत्नी के बीच चल रही सभी समस्याओं को बोले|

आप अपने समस्याओं को बोलते हुये कलश के ऊपर से नारियल अलग करे और फिर इसके ऊपर एक कपूर का टुकड़ा रख दे और फिर कपूर के टुकड़े को जला दे| अब इसी कपूर से भगवान गणेश की तीन बार आरती करे और उनसे अपने ऊपर से सभी समस्याओं को हटाने की प्रार्थना करे, तीन बार आरती करने के बाद नारियल को एक थाली में रख दे और जब कपूर पूरी तरह से जल जाए तो आप नारियल को फोड़े और प्रसाद स्वरूप पूरे घर के सदस्य ग्रहण करे, इस प्रसाद को आप किसी बाहर वाले को बिल्कुल भी ना दे|

इस उपाय को करने से आपके जीवन में चल रही सभी समस्याएँ दूर हो जाएगी और आपका दुर्भाग्य सौभाग्य में बदल जाएगा| इसके अलावा इस उपाय को करने से दरिद्रता दूर होती हैं और घर में हो रही धन की कमी भी दूर होती हैं| बता दें कि इस उपाय को करने के लिए आप बुधवार या शनिवार का दिन चुने| इस दिन करने से यह उपाय ज्यादा कारगर होता हैं और आपका भाग्य जल्दी ही बदलता हैं|