भोपाल। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि सरकार की उदासीनता लील गयी सागर के एक किसान पुत्र, कोरोना योद्धा, होनहार डॉक्टर शुभम उपाध्याय की जान को।
कोरोना की इस भीषण महामारी में अपनी जान जोखिम में डाल कोरोना योद्धा की भूमिका निभा रहे डॉक्टर शुभम उपाध्याय कोरोना पीड़ित मरीज़ों का इलाज करते-करते 28 अक्टूबर को ख़ुद संक्रमित हो गए थे।बीएमसी में इलाज के दौरान उनकी हालत में सुधार नहीं होने पर उन्हें 10 नवंबर को भोपाल के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।
परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। महंगा इलाज कराते-कराते उनके परिवार की जमा पूंजी भी खर्च हो गई ,उनके परिजनों ने बेहतर इलाज के लिए शासन से गुहार भी लगाई लेकिन सरकार से मदद , सहायता व बेहतर इलाज मिलने में काफ़ी देरी हुई।
बेहतर इलाज व तत्काल आर्थिक सहायता नहीं मिलने के कारण एक कोरोना योद्धा की आज दुखद मौत हो गई।
उन्हें चेन्नई सरकारी मदद से इलाज के लिए भेजने का निर्णय लिया गया लेकिन काफी देर से ?
यदि सरकार उनके बेहतर इलाज के लिये पहले ही चेत जाती , उनका बेहतर इलाज कराती और उनके परिवार की समय पर आवश्यक आर्थिक मदद करती तो शायद आज उनको बचाया जा सकता था।
सरकार के उदासीन रवैये के चलते एक होनहार , युवा कोरोना योद्धा ज़िंदगी की जंग हार गया।