जयपुर । मार्च में हमारी ट्रैनिंग बस पूरी ही होने वाली थी, कि लॉकडाउन लागू हो गया और हम जयपुर के एक होटल में ही फंस गए, कुछ दिन तो ठीक चला लेकिन फिर धीरे-धीरे दिन ब दिन खाने की दिक्कतें होने लगी। साथ ही हमारे परिवार को भी चिन्ता होने लगी‘ यह हकीकत बंया कर रही थी कर्नाटक से आयी अंजली।
होटल मैनेजमेन्ट की प्रशिक्षु अंजली ने बताया कि हमारा 7-8 लोगों का एक ग्रुप जिसमें कुछ छात्र-छात्राएं केरल से थे व कुछ कर्नाटक से थे। हम सभी माह नवम्बर में जयपुर में होटल मैनेजमेन्ट की ट्रैनिंग करने आये थे, मार्च में हमारा प्रशिक्षण पूरा होने ही वाला था कि लॉकडाउन लागू हो गया। ऐसे में हम घर भी नहीं जा सके और भोजन की भी दिक्कतें होने लगी। हमारा परिवार भी चिन्तित हो गया ऐसे में हमारे परिवारजनों ने जिला प्रशासन के वॉररूम के जरिये जिला प्रशासन के साथ सम्पर्क किया, तब जिला कलक्टर डॉ जोगाराम के निर्देश पर उपखण्ड अधिकारी-उत्तर, श्रीमती ओमप्रभा ने तुरन्त सहायता पहुॅचाई तथा हमारे लिए भोजन की व्यवस्था की इतना ही नही होटल के संचालक को भी पाबंद किया। जिला प्रशासन के इस सहयोग से दूर बैठे हमारे परिवारजन भी चिन्तित नही है। इसी प्रकार जिला प्रशासन के वाररूम में जानकारी मिलते ही मध्यप्रदेश के श्रमिकों को भी तत्काल सहायता पहुॅचाई गयी।