सोनीपत  ।  सोनीपत में राई ब्लॉक के गांव बड़ौली में और कैथल में 14 अप्रैल को डा. भीमराव अंबेडकर की जयंती  पर होने वाले मुख्यमंत्री व  उपमुख़्यमंत्री के कार्यक्रम पर संकट के बादल छा गए हैं, क्योंकि आंतिल चौबीसी खाप ने बैठक कर निर्णय लिया है कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल को गांव में घुसने तक नहीं दिया जाएगा। वहीं इसी दिन कैथल में उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को भी नहीं घुसने दिया जाएगा। कुंडली बॉर्डर पर करीब चार घंटे तक चली आंतिल खाप की बैठक में संयुक्त मोर्चा के किसान नेता डा. दर्शनपाल, राकेश टिकैत, योगेंद्र यादव व बलबीर सिंह दल्लेवाल के अलावा खाप प्रमुख हवा सिंह आंतिल के नेतृत्व में खाप के अन्य प्रतिनिधि भी मौजूद रहे। सभी ने एक मत से निर्णय लिया है कि कार्यक्रम का विरोध किया जाएगा, इसके लिए पूरे राई हल्के के किसान मोर्चा संभालेंगे। आंतिल चौबिसी खाप के इस निर्णय को संयुक्त किसान मोर्चा ने भी अपना पूर्ण समर्थन दिया है खाप ने संयुक्त मोर्चा के नेताओं के साथ हुई बैठक में स्पष्ट किया कि वे बाबा साहेब के कार्यक्रम का विरोध नहीं करेंगे, केवल मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री का विरोध करेंगे। बैठक में कहा गया कि यदि मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री को छोड़कर अन्य कोई भी नेता या अधिकारी बाबा साहेब के कार्यक्रम में भाग लेता है तो उसका विरोध नहीं किया जाएगा। । 3 कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर धरनारत किसानों ने बडौली व कैथल के कार्यक्रम का विरोध करने का निर्णय लिया है। इसी विरोध को लेकर आंतिल चौबीसी खाप ने कुंडली बार्डर पर खाप के धरने पर रविवार को पंचायत बुलाई, जिसमें संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं को भी आमंत्रित किया गया.