Thursday, December 1, 2022
Homeराजनीतिजरकीहोली की विवादित टिप्पणी पर डैमेज कंट्रोल के मोड में कांग्रेस, बयान...

जरकीहोली की विवादित टिप्पणी पर डैमेज कंट्रोल के मोड में कांग्रेस, बयान से किया किनारा 

बेंगलुरू । कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी (केपीसीसी) के सचिव सतीश जरकीहोली की उस विवादित टिप्पणी पर कांग्रेस पार्टी डैमेज कंट्रोल मोड में दिख रही है, जिसमें उन्होंने कहा था कि 'हिंदू शब्द फारसी मूल का है और इसका अर्थ गंदा होता है। इतना ही नहीं जरकीहोली ने स्पष्ट किया कि वह किसी भी धर्म के अनुयायियों की भावनाओं को आहत नहीं करना चाहते हैं, उन्होंने कहा कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं कहा। उन्होंने कहा, हमें जाति और धर्म से ऊपर उठना चाहिए। हिंदू धर्म से जुड़ी किसी भी चीज का महिमामंडन करना उचित नहीं है। इस विवादस्पद टिप्पणी के लिए कांग्रेस ने माफी मांगकर बयान से खुद को दूर किया, हिंदू संगठनों ने मंगलवार को उनकी टिप्पणियों के लिए जरकीहोली के खिलाफ नारा देना जारी रखा। कांग्रेस आगामी छह महीने से भी कम समय में होने वाले विधानसभा चुनाव में सत्ता में वापसी की उम्मीद कर रही है।
कर्नाटक कांग्रेस के प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने स्पष्ट किया है कि हिंदू धर्म जीने का एक तरीका है और एक सभ्यतागत वास्तविकता है। उन्होंने कहा, कांग्रेस ने हर धर्म और आस्था का सम्मान करने के लिए देश का निर्माण किया। यहीं भारत का सार है। उन्होंने कहा, जरकीहोली को दिया गया बयान बेहद दुर्भाग्यपूर्ण और खारिज किए जाने लायक है। हम इसकी स्पष्ट रूप से निंदा करते हैं। इसी बीच जारकीहोली ने वीडियो जारी कर सफाई दी है कि उन्होंने किसी धर्म या भाषा का अपमान नहीं किया है। उन्होंने कहा, यह सच है कि मैंने उल्लेख किया है कि हिंदू शब्द फारसी मूल का है। मैंने इस पर पूरी चर्चा की मांग की है।
कांग्रेस नेता ने कहा, यह दिखाने के लिए रिकॉर्ड उपलब्ध हैं कि हिंदू शब्द के अलग-अलग अर्थ हैं। मैंने इस पर जोर दिया है। उन्होंने कहा, देश भर में पूरे मीडिया में एक शब्द पर टिप्पणियों पर बहस चल रही है। मैं इस मामले पर स्पष्टीकरण दे रहा हूं। यह सतीश जरकीहोली का बयान नहीं था। हर दिन हजारों इसतरह के ही भाषण दिए जाते हैं। केवल मेरे बयान को हाइलाइट किया जा रहा है। उन्होंने कहा, मैं हिंदू, फारसी, इस्लाम, जैन और बौद्ध धर्म की सीमाओं को लांघकर अपना काम कर रहा हूं। हमें जाति और धर्म से ऊपर उठना चाहिए। इस पृष्ठभूमि में मैंने जो कहा उसमें कुछ भी गलत नहीं है।
उन्होंने कहा कि जब हिंदू मारे जाते हैं, तब उन्हें विशेष ध्यान दिया जाता है। लेकिन साथ ही अगर दलितों की हत्या की जाती है, तब इस नजरअंदाज कर दिया जाता है। हिंदू धर्म पर दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का भाषण सुनना चाहिए। हिन्दू धर्म को एक जीवन पद्धति के रूप में वर्णित किया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने भी यही कहा है।
अगर मैं गलत साबित हुआ, तब इस्तीफा दे दूंगा
कांग्रेस नेता जारकीहोली के बयान पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी बीच जारकीहोली अपने बयान पर अभी भी कायम हैं। उन्होंने कहा कि सभी को साबित करने दें कि मैं गलत हूं। अगर मैं गलत हूं, तब मैं अपने बयान के लिए माफी मांगूंगा साथ ही विधायक पद से इस्तीफा भी दूंगा। वहीं कांग्रेस पार्टी उनके बयान से पल्ला झाड़ती नजर आ रही है। कर्नाटक के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने कहा कि जरकीहोली का बयान उनकी निजी राय है न कि कांग्रेस पार्टी की राय है। हम इस पर उनसे स्पष्टीकरण मांगने वाले हैं। कांग्रेस पार्टी सभी धर्मों का समर्थन करती है और उनके बयान से सहमत नहीं है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

Join Our Whatsapp Group