जानें व्हाइट टी रेसिपी

सफेद चाय आमतौर पर अपने मूल स्वाद को बनाए रखने के लिए कम तापमान पर बनाई जाती है। इसे केवल एक मिनट के लिए ही पकाना चाहिए। अगर चाय की पत्तियां कॉम्पैक्ट बड्स के रूप में हैं तो इसका एक चम्मच पकाने के लिए लें। अगर वे हल्के पत्ते हैं तो आधा छोटा चम्मच लें।कैफीन चाय बनाने पर निर्भर करती है। पारंपरिक सफेद चाय में कैफीन की मात्रा बहुत कम होती है। ऑक्सीकरण की कमी, कम पकने का समय और कम कैफीन के कारण, यह चाय काली चाय और कॉफी की तुलना में काफी कम नुकसानदायक है।

1. सफेद चाय में कैटेचिन नामक पॉलीफेनोल होता है। यह हमारे शरीर में एक एंटीऑक्सीडेंट गुण के रूप में काम करता है। यह उम्र बढ़ने, सूजन, कमजोर इम्यूनिटी और कई पुरानी बीमारियों आदि जैसे कई स्वास्थ्य मुद्दों के जोखिम को भी कम कर सकता है।
2. सफेद चाय में मौजूद पॉलीफेनॉल्स दिल की बीमारी के जोखिम को भी कम कर सकते हैं।
3. वाइट टी फैट बर्न करने के लिए प्रभावी होती है। यह आपके मेटाबॉलिज्म को भी बूस्ट करता है जो वजन घटाने के लिए भी जिम्मेदार होता है।
4. यह चाय फ्लोराइड, कैटेचिन और टैनिन के साथ आती है। यह हमारे दांतों को कैविटी, बैक्टीरिया और शुगर के प्रभाव से बचाने के लिए बहुत अच्छा है। फ्लोराइड दांतों की कैविटी को रोक सकता है; कैटेचिन दांतों को प्लाक बैक्टीरिया से बचाते हैं।
5. सफेद चाय कैंसर के खतरे को कम करने के लिए फायदेमंद होती है।
6. सफेद चाय में मौजूद पॉलीफेनोल इंसुलिन प्रतिरोध के जोखिम को कम करता है। इंसुलिन सबसे महत्वपूर्ण हार्मोन में से एक है।
7. ऑस्टियोपोरोसिस हड्डियों से संबंधित बीमारी है। सफेद चाय में कैटेचिन ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को कम करता है।
8. चाय पुरानी सूजन से लड़ सकती है, इसलिए यह पार्किंसंस और अल्जाइमर रोगों के जोखिम को भी कम कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button