Sunday, February 25, 2024
Homeलाइफस्टाइलYoga: लंबाई बढ़ाने से लेकर अच्छी नींद तक, ये योगासन आएंगे काम

Yoga: लंबाई बढ़ाने से लेकर अच्छी नींद तक, ये योगासन आएंगे काम

Yoga: योग से भला क्या संभव नहीं है और आजकल लगभग हर कोई योग को आजकल अपनी जिंदगी में शामिल कर चुका है। लोग मोटापे को कम करने के लिए और तनाव कम करने के लिए योगा करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं की लंबाई बढ़ाने और अच्छी नींद के लिए भी योगा आपकी काफी हद तक मदद कर सकता है। अगर आप लम्‍बे होना चाहते हैं, ये भी संभव है। यहां कुछ योगासन बताए गए हैं जो आपकी कुछ दिक्कतों को दूर कर सके बीमार होने पर जरूरी नहीं है कि हमेशा दवाएं खाएं। अपनी लाइफस्टाइल, डायट सुधारने के साथ रूटीन में कुछ योगासन भी शामिल किए जा सकते हैं। नियमित योग आसन और जीवन शैली में बदलाव लाना, हाइट बढ़ाने और अच्छी नींद में सहयोगी हो सकता है।

अच्छी नींद के लिए योगासन

  • नींद के लिए योग शवासन सोने से पहले मन शांत करने और शरीर को नींद के लिए तैयार करने के लिए इसे करें।
  • सुप्त भद्रासन यह आसन तनाव को कम करने में मदद करता है।
  • प्राणायाम अनुलोम-विलोम और भ्रामरी प्राणायाम जैसे श्वास व्यायामों का नियमित अभ्यास करें।
  • ध्यान सोने से पहले गहरी श्वास लेंव छोड़ें। सांसों पर ध्यान केंद्रित रखें।
  • याद रखें, नींद की आदतें सुधारने में समय लग सकता है तो धैर्य रखें।
  • बच्चों में योग का अभ्यास तनाव कम व शारीरिक मजबूती को बढ़ाने में मदद करता है।

जीवनशैली में बदलाव

● शरीर की जैविक घड़ी ठीक करने के लिए रोज नियत समय पर सोएं व उठें।
● सोने से कुछ समय पहले से फोन, टीवी का इस्तेमाल न करें।
● सोने से पहले किताब पढ़ें। गर्म पानी से स्नान कर सकते हैं। रात में कैफीन व एल्कोहल से बचें।
● शांत व ठंडे स्थान पर सोएं।

लंबाई बढ़ाने के लिए योगासन

शीर्षसन

इसे करने के लिए वज्रासन मुद्रा में घुटनों के बल बैठ जाएं, आसानी से सांस लेते हुए सिर को घुटनों के सामने फर्श पर रखें। अपनी अंगुलियों को सिर के पीछे से पकड़े और हाथों से सिर के पिछले भाग को सहारा दें। धीरे-धीरे दोनों पैरों के ऊपर उठाएं और एकदम सीधे रखें, पैरों को ऊपर उठाने के लिए आप शुरुआत में दीवार का सहारा लें। इस दौरान अपना शरीर सीधा रखें और संतुलन अच्छा रखें। इश मुद्रा को 15-20 सेकेंड तक गहरी सांस लें और इसी मुद्रा में रहें। सांस छोड़ें और धीरे-धीरे मीचे जमीन पर वापस लाएं।

चक्रासन

पीठ के बल लेंट जाए, इसके बाद अपने दोनों हाथों और पैरों को साध करें, पैरों को घुटने से मोड़े इसके बाद होथों को पीछे की ओर लें औऱ अपने पैरों पर वजन डालते हुए कूल्हों को ऊपर उठाएं। इसके बाद दोनों हाथों पर अपना वजन डालते हुए अपने कंधओं को ऊपर उठाएं और धीरे से कोहनी को सीधे करें अपनी हाथ और पैरों को पूरी तरह से सीधा रखें।

सर्वांगासन

पीठ के बल लेट जाएं औऱ दोनों हाथों को शरीर से सटाकर साधी करें, अब धीरे सांस लेते हुए पैरों,कूलिहों औऱ कमर को ऊपर उठाने की कोशिश करें। कमरर को हाथों का देते हुए कोहनियों को जमीन से सटाएं। इस दौरान आपके शरीर का भार कंधों,कोहनियों और सिर पर होगा. कुछ देर इसी मुद्रा में बने रहे और धीरे-धीरे पैर नीचे करें और उसी अवस्था में आ जाएं। बालासन इस आसन से शरीर को आराम मिलता है। तनाव व चिंता कम होती है। पश्चिमोत्तानासन यह आसन रीढ़ की हड्डी को फैलाता है। तनाव व चिंता कम होते हैं। शवासन तनाव कम होता है। तन और मन को ताजगी मिलती है। अनुलोम-विलोम प्राणायाम सांस लेने की यह तकनीक नर्वस सिस्टम को संतुलित करने व तनाव कम करने में मदद कर सकती है। भ्रामरी प्राणायाम इस आसन से सांस और ध्वनि पर ध्यान केंद्रित करके मन शांत और तनाव कम होता है।



RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments