Saturday, June 22, 2024
Homeट्रेंडिंगGold Price : जानिए पोर्टफोलिया के लिए क्यों है जरूरी? सोने की...

Gold Price : जानिए पोर्टफोलिया के लिए क्यों है जरूरी? सोने की बढ़ती महंगाई आपको कर देगी मालामाल

Gold Price: सोने की बढ़ती कीमतों के बाद भी लोगों का इससे प्रेम कम नहीं हुआ है. लोग अभी भी सोने की खरीदारी करते नजर आ रहे हैं. ऐसे इस कारण है क्योंकि लोग सोने को सुरक्षित निवेश मानते हैं. बीते 1 साल में सोने की कीमतों में करीब 20 प्रतिशत की तेजी आई है. इस दौरान आम आदमी से लेकर केंद्रीय बैंक भी जमकर सोने की खरीदारी कर रहे हैं. सोने के दामों बढ़ रहे हैं, ऐसे में अगर आपने सोने में  निवेश कर रखा है तो आपका मालामाल होना तय है.

बीते साल 2023 की बात करें तो बैंकों ने करीब 1, 037.4 टन सोना खरीदा है. महज 10 सालों में सोने के दामों के अंदर ताबड़तोड़ तेजी दर्ज की गई है. साल 2010 में दस ग्राम सोने का दाम 18500 रुपये था. वहीं, साल 2021 में यह 48000 के पार चला गया. आज के समय की बात की करें तो इसका मूल्य 72000 रुपये प्रति 10 ग्राम के पार है. ऐसे में मार्केट एक्सपर्ट्स भी इस बात पर जोर दे रहे हैं कि सोने की खरीदारी आज के समय को देखते हुए एक सुरक्षित निवेश का साबित हो रही है. 

वैश्विक स्तर पर भी बढ़ रहे हैं दाम

सोने के दामों की बात करें तो वैश्विक स्तर पर भी इसके दामों में तगड़ा इजाफा देखने को मिल रहा है. शादी का सीजन शुरू होते ही इसकी मां कई गुना तक बढ़ जाती है. फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स का मानना है कि निवेशकों को अपनी पोर्टफोलियों में सोने को जरूर शामिल करना चाहिए. सोने में निवेश से निवेशकों को कई प्रकार के फायदे मिलते हैं. 

सुरक्षित निवेश के तौर पर देखा जाता है सोना

फाइनेंशियल एडवाइजर्स के मुताबिक जहां भू-राजनीतिक तनाव, प्राकृतिक आपदा आदि विषम परिस्थितियों में इक्विटी और रियल एस्टेट जैसे सेक्टर्स में दाम गिरने लगते हैं, वहीं सोने के दाम लगातार बढ़ने लगते हैं. इसकी कीमत समय के साथ खूब बढ़ती है. 

अफवाहों का नहीं पड़ता है ज्यादा असर

सोने के दामों में अफवाहों का इतना अधिक असर नहीं पड़ता है. अगर किसी कंपनी के बारे में कोई खराब खबर आती है तो कंपनी की इक्विटी या स्टॉक की कीमत तुरंत गिर जाती है. वहीं, सोने के साथ ऐसा नहीं होता है. इस प्रकार की अफवाहों से सोने के दाम नहीं गिरते हैं. 

महंगाई बढ़ने पर बढ़ती है कीमत

महंगाई दर जब भी बढ़ती है तो इक्विटी रिटर्न कम हो जाता है. वहीं, एक लंबी अवधि में सोने में किया गया निवेश बढ़ती महंगाई के साथ ही आपको अच्छा रिटर्न देता है. अगर एक उदाहरण से इसको समझें तो साल 2007 से 2008 तक भारत में महंगाई दर 9.1 फीसदी पर पहुंच गई थी. उस समय मार्केट कैप स्टॉक्स का रिटर्न -6.0 फीसदी तक रहा. वहीं, सोने पर 33.1 फीसदी तक का रिटर्न मिला. 

तुरंत मिलता है पैसा

सोना को आप इमरजेंसी में तुरंत यूज कर सकते हैं.आप सोने को बेचकर या फिर उस पर लोन लेकर अपनी तत्काल जरूरत को पूरा कर सकते हैं. अगर आपके पोर्टफोलियो में सोना है तो आपका पोर्टफोलियो बैलेंस्ड है. 

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments