Tuesday, May 28, 2024
Homeदुनियाइंसानों जैसा चेहरा और पैर 'शुतुरमुर्ग'...

इंसानों जैसा चेहरा और पैर ‘शुतुरमुर्ग’…

Viral news:मानवजाति की रचना ईश्वर की छवि में की गई थी, इसलिए मनुष्य की पहचान समान भौतिक विशेषताओं से होती है। अफ्रीका की उस जनजाति से मिलें जहां शादी करना मना है और केवल 2 उंगलियों से चलती है। लेकिन क्या आपने पहले कभी किसी सामान्य इंसान को दो उंगलियों वाला देखा है? आइए एक नजर डालते हैं कि इस लेख के अंदर क्या है।

जनजाति के लोगों के पैर में सिर्फ दो उंगलियां

अलग-अलग देशों के लोगों के चेहरे भी काफी अलग-अलग होते हैं, लेकिन शारीरिक बनावट सभी की एक जैसी होती है। फिर चाहे कोई चीन का हो या जापान का, अमेरिका का हो या भारत का।  लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस दुनिया में एक जनजाति है, जिसकी पूरी नस्ल एक अजीबोगरीब स्थिति से गुजर रही है। एक इंसान के आमतौर पर एक पैर में पांच उंगलियां होती हैं, लेकिन जिम्बाब्वे के उत्तरी हिस्से में स्थित कायेम्बा क्षेत्र में रहने वाले इस जनजाति के लोगों के पैर में सिर्फ दो उंगलियां हैं। 

शुतुरमुर्ग जैसे होते हैं इस जनजाति के पैर

वडोमा जनजाति को बंटवाना भी कहा जाता है जिसका शाब्दिक अर्थ है वंशज या बच्चे। इस गांव में जनजाति के बाहर शादी करना घृणित है और ये दो पंजे वाले इंसान छिपकलियों की तरह मौजूद हैं। इन्हें शुतुरमुर्ग-पैर वाली जनजाति के रूप में भी पहचाना जाता है। एक इंसान के आमतौर पर एक पैर में पांच उंगलियां होती हैं, लेकिन जिम्बाब्वे के उत्तरी हिस्से में स्थित कायेम्बा क्षेत्र में रहने वाले इस जनजाति के लोगों के पैर में सिर्फ दो उंगलियां हैं. वो भी इतनी बड़ी-बड़ी कि आप देखकर दंग रह जाएंगे। जिस जनजाति की हम बात कर रहे हैं, वो ‘वडोमा जनजाति’ है।  इस जनजाति के लोगों का पूरा शरीर इंसानों की तरह है।  लेकिन पैरों की बनावट बिल्कुल ऑस्ट्रिच की तरह है।  पैरों की उंगलियां इतनी विशाल हैं कि ये लोग न तो जूते पहन पाते हैं और ना ही आम लोगों की तरह चल पाते हैं। 

वडोमा जनजाति के लोगों के पैर इतने अलग क्यों

आइए आपको बताते हैं आखिर क्यों वडोमा जनजाति के लोगों के पैर इतने अलग होते हैं।  दरअसल इस जनजाति के अधिकतर लोग एक आनुवंशिक विकार से पीड़ित हैं, जिसे ‘एक्ट्रोडैक्टली’ या ‘ऑस्ट्रिच फूट सिंड्रोम’ के नाम से जाना जाता है।  रेयर डिजीज के मुताबिक, एक्ट्रोडैक्टली को स्प्लिट हैंड/फूट मालफॉर्मेशन (SHFM) भी कहा जाता है। ये बीमारी पैर की उंगलियों को प्रभावित करती है।  कई बार पैरों के साथ-साथ हाथों की उंगलियां भी प्रभावित हो जाती हैं। 

दूसरी जाति में नहीं कर सकते शादी

वडोमा जनजाति के लोगों में यह बीमारी एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक जाती है।  इस विकार की वजह से इन लोगों को जूते पहनने में काफी परेशानी होती है।  इन्हें दौड़ने और चलने में भी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।  हालांकि जब बात पेड़ पर चढ़ने की आती है तो इस मामले में इनसे कोई नहीं जीत सकता। क्योंकि इस काम को वह बहुत आसानी से कर लेते हैं।

वडोमा जनजाति, जिसका उल्लेख अफ्रीका की सबसे पुरानी जनजाति के रूप में किया गया है, जिम्बाब्वे की एकमात्र शिकारी जनजाति है जो वर्तमान में ज़म्बेजी नदी घाटी के घाटियों के करीब कान्येम्बा क्षेत्र में रहती है। सदस्यों के लिए जनजाति के बाहर शादी करना गैरकानूनी है और इसके परिणामस्वरूप, दो उंगलियों वाली स्थिति अन्य जनजातियों पर लागू नहीं होती है। इस स्थिति वाले सदस्यों को समुदाय में विकलांग व्यक्ति नहीं माना जाता है और यह बताया गया है कि उनके पैर की उंगलियां उन्हें आसानी से पेड़ों पर चढ़ने में मदद करती हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments