Monday, April 22, 2024
Homeबिज़नेसचीन को मेड इन इंडिया Holi ने दिया 10 हजार करोड़ का...

चीन को मेड इन इंडिया Holi ने दिया 10 हजार करोड़ का झटका, 50 हजार करोड़ का हुआ कारोबार

मेड इन इंडिया Holi : 25 मार्च को देश भर में होली का त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। हर तरफ रंग और गुलाल हैं. चारों ओर हवा में खुशियों का गुलाल उड़ता नजर आया. लोगों ने एक-दूसरे को गुलाल लगाकर होली की शुभकामनाएं दीं। बच्चों ने जहां एक-दूसरे पर रंग-बिरंगे पानी से भरे गुब्बारे फेंके, वहीं बड़ों ने दोस्तों और रिश्तेदारों से मुलाकात की और एक-दूसरे को मिठाइयां खिलाई। इस बार की इस देसी होली ने जहां कारोबारियों की झोली भर दी है. इस बार होली पर देशभर में 50 हजार करोड़ के कारोबार का अनुमान है, वहीं चाइनीज प्रोडक्ट की बहिष्कार से चीन की मुश्किल बढ़ गई है. चाइनीज प्रोडक्ट के बायकॉट के चलते चीन के निर्यात को 10 हजार करोड़ का झटका लगा है.

होली पर 50 हजार करोड़ का कारोबार

इस बार होली पर वोकल फॉर लोकल का दबदबा रहा. चीनी सामान पूरी तरह बाजार गायब दिखे. रंग, गुलाल, पिचकारी में चाइनीज प्रोडक्ट गायब रहे. मेड इन इंडिया प्रोडक्ट पर लोगों ने जमकर पैसा खर्च किया. देसी होली ने कारोबार को पुश किया. कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ( कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल के मुताबिक इस साल होली पर 50 हजार करोड़ से ज्यादा का कारोबार होने का अनुमान है. पिछले साल के मुकाबले इस साल होली पर 50 फीसदी अधिक का कारोबार होने का अनुमान है. देशभर में जहां 50 हजार करोड़ का बिजनेस होने की उम्मीद है तो वहीं अकेले दिल्ली में ही 5 हज़ार करोड़ रुपये के कारोबार की संभावना है.

चीन को दिया मेड इन इंडिया ने झटका

चीन को मेड इन इंडिया से बड़ा झटका मिला है. पहले दिवाली और अब होली पर चीन से होने वाले आयात में गिरावट आई है. खंडेलवाल के मुताबिक होली पर लोगों और व्यापारियों ने चीनी सामान का पूर्ण बहिष्कार कर दिया है. होली से जुड़े सामानों का चीन से लगभग 10 हजार करोड़ का आयात होता था, लेकिन इस बार चीन से न के बराबर आयात किया गया. लोगों ने चीनी सामान के बजाए देश में बने हर्बल रंग- गुलाल, पिचकारी, गुब्बारे, चंदन , पूजा सामग्री का इस्तेमाल किया. लोगों ने देसी सामान बढ़चढ़ कर खरीदा. चीन को इस बहिष्कार के चलते बड़ा नुकसान झेलना पड़ रहा है.

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments