Saturday, June 22, 2024
Homeधर्मVaastu Dosha : आज ही लें सुधार...कैंसर का कारण बनते हैं घर...

Vaastu Dosha : आज ही लें सुधार…कैंसर का कारण बनते हैं घर में मौजूद ये वास्तु दोष

Vaastu Doshaशरीर में होने वाले रोगों की वजह भी ज्योतिष में ग्रहों की दशा या किसी अशुभ योग का परिणाम होती हैं. वहीं, आपको यह जानकर हैरानी होगी कि वास्तुदोष कई सारी बीमारियों की जड़ बनता है. वास्तु शास्त्र के अनुसार, वास्तुदोष आपको मानसिक और शारीरिक रूप से बीमार कर सकता है. आजकल कई गंभीर बीमारियों के बारे में सुनने के लिए मिलता है.

पुराने जमाने में जब कोई मकान बनाया जाता था तो भूमि पूजन से लेकर मकान बनाने तक हर चीज में ज्योतिष से लेकर वास्तु का ख्याल रखा जाता था. आजकल लोग फ्लैट्स में रहते हैं. इन फ्लैट्स को जगह और मॉर्डन तरीके से बनाया जाने लगा है. इस कारण यहां पर वास्तु आदि चीजों का ध्यान कम रखा जाता है. ऐसे में वास्तुदोष बनता है और यह वास्तुदोष वहां रहने वाले लोगों को बीमार तक कर सकता है. कैंसर जैसी गंभीर बीमारी भी वास्तुदोष के कारण हो सकती है. आइए जानते हैं कि कैंसर किस वास्तुदोष के कारण होता है. 

होते हैं ये दो वास्तुदोष 

जिन घरों में कैंसर का मरीज होता है, उनके यहां यह दो वास्तु दोष कॉमन होते हैं. इनमें घर का ईशान कोण अगर गोल होता है या फिर कटा हुआ अथवा दबा होता है तो तो भी वास्तु दोष बनता है. ईशान कोण का बढ़ा हुआ होना या अन्य दिशाओं की तुलना ऊंचा होना भी कैंसर का कारण बनता है. दूसरे वास्तु दोष की बात करें तो यह घर के दक्षिण-पश्चिम दिशा या आग्नेय, वायव्य और नैऋत्य कोण में होता है. 

ब्रेन कैंसर का कारण है यह दोष 

वायव्य, उत्तर, ईशान व पूर्व दिशा का ऊंचा होना और आग्नेय,दक्षिण, नैऋत्य व पश्चिम में का ज्यादा नीचा होना या काफी बढ़ा हुआ होना अथवा भूमिगत जल  का स्रोत होना दोष उत्पन्न करता है. 

इस दोष के कारण होता है ब्लड कैंसर 

नैऋत्य में भूमिगत पानी को स्रोत या फिर इसका बहुत नीचा और बढ़ा हुआ होना. इसके साथ ही अन्य दिशाओं का ईशान कोण की तुलना में ज्यादा नीचे होना ब्लड कैंसर का कारण बनता है. 

ब्रेस्ट कैंसर

अन्य दिशाओं की तुलना ईशान कोण का ऊंचा होना और पूर्व आग्नेय में भूमिगत पानी का स्रोत जैसे टंकी, बोर या फिर कुंआ का होना भी ब्रेस्ट कैंसर पैदा करता है. 

यूट्रस कैंसर 

दक्षिण या दक्षिण नैऋत्य में भूमिगत पानी का स्रोत या फिर इसका किसी भी प्रकार से नीचा होना या फिर बढ़ा हुआ होना भी यूट्रस कैंसर का कारण बनता है. 

पेट का कैंसर

पश्चिम दिशा या पश्चिम नैऋत्य कोण में भूमिगत जल का स्रोत होना और इसका ईशान कोण की तुलना नीचा होना पेट के कैंसर को बढ़ाता है. 

आंत का कैंसर 

पश्चिम नैऋत्य कोण में भूमिगत पानी या इसका ज्यादा नीचा अथवा बढ़ा हुआ होना आंत के कैंसर का कारण बनता है. 

किडनी का कैंसर 

पश्चिम और नैऋत्य कोण में पानी का स्रोत होना या फिर इसका किसी भी प्रकार से बढ़ा हुआ होना किडनी के कैंसर को बढ़ावा देता है. 

फेफड़े का कैंसर 

उत्तर व उत्तर वायव्य का बंद होना पश्चिम नैऋत्य में भूमिगत पानी का स्रोत होने से भी फेफड़ों का कैंसर हो सकता है. 

सिर, गले व मुंह का कैंसर 

ईशान कोण का ऊंचा या बढ़ा हुआ होना व पश्चिम दिशा का ज्यादा नीचे होना इन कैंसर का कारण बनता है. 

करें ये काम 

अगर आपके घर में कोई कैंसर का मरीज है तो उसका इलाज कराएं और किसी वास्तु एक्सपर्ट्स से सलाह लेकर इन दोषों को दूर करने के उपाय करें. 

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments