Thursday, July 25, 2024
Homeलाइफस्टाइलDry Fruits: एंटीऑक्‍सीडेंट और कैल्शियम से भरपूर है, ये ड्राई फ्रूट्स

Dry Fruits: एंटीऑक्‍सीडेंट और कैल्शियम से भरपूर है, ये ड्राई फ्रूट्स

Dry Fruits: सर्दियां शुरू हो गई है। इस महीने आपका ड्राई फ्रूट्स (Dry Fruits) खाना बहुत जरूरी होता है। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स खाने से हमारी बॉडी (Body) गर्म रहती है। आपको बता दें कि मखाना एक ऐसा ड्राई फ्रूट्स है जिसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन-फाइबर (Protein-fibre) पाया जाता है। मखाने को स्नैक के रूप में आप खा सकते है। मखाना एंटीऑक्‍सीडेंट और कैल्शियम से भरपूर है। कुछ लोग मखाने को कच्चा खाते हैं, तो कुछ ब्रेकफास्ट में इसे दूध में मिलाकर खाते हैं। दोनों ही तरीके से खाने में शरीर के लिए फायदे हैं। दुनिया भर का 90 प्रतिशत मखाना बिहार में पाया जाता है। इसे कुमुदिनी के फूल से निकाला जाता है।
आयुर्वेद में मखाना सेहत के लिए कमाल का फूड बताया गया है। मखाना एक शानदार कैल्शियम फूड है, जिसमें कैलोरी बहुत कम होती है। इसे खाकर महिलाएं हड्डियों को कमजोर होने से बचा सकती हैं। मखाना खाने से फैट के बिना प्रोटीन, फाइबर, आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस भी मिलता है। कई सेलिब्रिटीज का ये फेवरेट स्नैक है।

(Makhana Benefits) मखाना खाने के फायदे-

  • मखाने के अंदर स्पर्म की क्वालिटी और लिबिडो बढ़ाने वाले गुण होते हैं। जो लोग नियमित रूप से मखाना खाते हैं, उनका टेस्टोस्टेरोन लेवल और सेक्शुअल हेल्थ दूसरों से बेहतर होती हैं।
  • हेल्थलाइन के अनुसार, दुनियाभर में मखाना वेट लॉस करने की खासियत के लिए जाना जाता है। इसमें फैट नहीं होता है और कम कैलोरी के साथ भरपूर फाइबर और प्रोटीन मिलता है। फाइबर पेट को दिनभर भरा रखता है और प्रोटीन खाने से भूख कंट्रोल में आती है।
  • स्ट्रेस, पॉल्यूशन और अनहेल्दी लाइफस्टाइल ने समय से पहले बूढ़ा बनाना शुरू कर दिया है। लेकिन कुछ स्टडी मखाने को बुढ़ापा दूर रखने वाली बताती हैं। इसमें ग्लूटामाइन, मेथियोनाइन, आर्जिनाइन जैसे एंटी-एजिंग गुण होते हैं। जो त्वचा, दिमाग और शरीर को स्वस्थ बनाए रखते हैं।
  • मखाने में ब्लड शुगर को मैनेज करने वाले गुण होते हैं और यह इंसुलिन को बढ़ाता है। इसलिए डायबिटिक पेशेंट इसे स्नैक के रूप में खा सकते हैं। हालांकि, इससे पहले उन्हें अपने डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए।
  • लिवर और दिल के लिए मखाना फायदेमंद होता है। इसमें कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड लेवल को कम करने वाले गुण होते हैं, जो नॉन-एल्कोहॉलिक फैटी लिवर और हार्ट डिजीज से बचाव में मददगार देखे गए हैं।

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह का इलाज नहीं है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments