Wednesday, May 22, 2024
Homeखबरेंसीआईआई ने औद्योगिक परिदृश्य का विजन किया तैयार

सीआईआई ने औद्योगिक परिदृश्य का विजन किया तैयार

भोपाल। सीआईआई भोपाल जोन भारतीय उद्योग परिसंघ ने 19 अप्रैल 2024 को भोपाल में परिवर्तन, पहचान, प्रकृति: भविष्य के लिए तैयार भोपाल क्षेत्र के लिए एक दृष्टिकोण विषय के तहत वर्ष 2024-25 के लिए अपनी पहली क्षेत्रीय परिषद बैठक आयोजित की। कार्यक्रम अध्यक्षता जोनल चेयरमैन पुलकित शर्मा कार्यकारी निदेशक- दौलतराम इंजीनियरिंग ने की। कार्यक्रम में उद्योग जगत के लीडर्स और स्टेकहोल्डर्स भोपाल की परिवर्तनकारी क्षमता वा विचारविमर्श करने के लिए एक साथ आये और इस वर्ष के लिए एजेंडा पर चर्चा की। बैठक के दौरान, बीएचईएल के कार्यकारी निदेशक श्री एसएम रामनाथन ने बीएचईएल और भोपाल के स्थानीय उद्योगों, विशेष रूप से एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम) के बीच सहयोग और अवसरों पर विस्तृत चर्चा की। उन्होंने बीएचईएल के चौबीसों घंटे चलने वाले यूजर फ्रेंडली ऑनलाइन पोर्टल पर प्रकाश डाला, जो प्रारंभिक डिजाइन अवधारणाओं से लेकर टूलींग और उससे आगे तक एक निर्बाध पंजीकरण प्रदान करता है। इस प्रक्रिया में रिसर्च और डेवलपमेंट फेज और टाइप टेस्टिंग के दौरान मार्गदर्शन शामिल है। शरामनाथन ने स्थानीय उद्यमों के साथ साझेदारी को बढ़ावा देने के उद्देश्य से खरीद प्राथमिकताओं, बिल छूट लाभों और अन्य प्रोत्साहनों की भी रूपरेखा पर प्रकाश डाला। श्री रामनाथन ने आवश्यकताओं को पूरा करने और स्टार्टअप्स को जीईएम पोर्टल पर स्टार्टअप रनवे के माध्यम से सामान की आपूर्ति करने के अवसर प्रदान करके गवर्नमेंट-ई-मार्केटप्लेस जीईएम के प्रति बीएचईएल की प्रतिबद्धता पर जोर दिया। उन्होंने पूर्व अनुभव के लिए मानदंडों पर प्रकाश डाला और सप्लायर्स नेटवर्क में विविधता लाने और नए वेंडरों को शामिल करने के लिए यूनिफायर सप्लायर डेवलपमेंट सेल की शुरुआत के बारे में बताया।

प्रत्‍यक्ष कर में हुए सुधारों पर चर्चा

चर्चा के दौरान प्रत्यक्ष कर हाल ही में हुए सुधारों पर बात हुई, जहां सीए अमित जैन ने आयकर अधिनियम की धारा 43 (बी) (एच) में हाल के संशोधनों और सूक्ष्म और लघु उद्यमों के बकाया निर्धारिकरण पर महत्वपूर्ण प्रभाव पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि ये बदलाव एमएसएमई अधिनियम 2006 का अनुपालन सुनिश्चित करने के उद्देश्य से किए गए हैं ताकि उन्हें अधिक लचीलापन और राहत प्रदान की जा सके। संशोधित प्रावधानों के तहत, एमएसएमई को देय राशि, जैसे कि कुछ सेवाओं या वस्तुओं के लिए भुगतान, अब संचय के वर्ष के बजाय केवल भुगतान के वर्ष में कटौती के लिए पात्र हैं। उन्होंने कहा कि ये समायोजन एमएसएमई के लिए नकदी प्रवाह की बाधाओं को कम करेगा, जिससे उन्हें अपने वित्त और व्यवसाय को अधिक प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने की अनुमति मिलेगी। धन्यवाद प्रस्ताव सीआईआई भोपाल ज़ोन के उपाध्यक्ष राजेंद्र पटेल द्वारा प्रस्तुत किया गया। क्षेत्रीय परिषद की बैठक ने उद्योगों को आगामी वर्ष में भोपाल के औद्योगिक परिदृश्य को प्रोत्साहित करने के लिए रणनीति बनाने और एजेंडा निर्धारित करने के लिए एक अमूल्य मंच प्रदान किया। इस चर्चा ने क्षेत्र में सतत विकास और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए सीआईआई भोपाल
जोन और उसके सदस्यों की प्रतिबद्धता को रेखांकित किया।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments