Wednesday, May 22, 2024
Homeखबरेंविकसित भारत के निर्माण में कौशल विकास की भूमिका पर कांक्‍लेव

विकसित भारत के निर्माण में कौशल विकास की भूमिका पर कांक्‍लेव

भोपाल। आईसेक्ट द्वारा विकसित भारत के निर्माण में कौशल विकास, वित्तीय समावेशन और सामाजिक उद्यमिता की भूमिका विषय पर चौथे समर्थ भारत कॉन्क्लेव का आयोजन 22-23 अप्रैल को कुशाभाऊ ठाकरे हॉल में किया जा रहा हैत्र साथ ही आईसेक्ट द्वारा 30 अप्रैल से 25 मई तक भारत के 19 राज्यों में राज्य सम्मेलनों का आयोजन भी किया जाना है। यह वार्षिक सम्मेलन विकसित भारत के निर्माण के हमारे साझा मिशन में एक साथ आने, सीखने और सहयोग करने का एक अनूठा मंच है। आईसेक्ट भोपाल मध्य प्रदेश में इस राष्ट्रीय-सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है, जिसमें व्यावहारिक नेतृत्व सत्र, प्रतिष्ठित सामाजिक उद्यमियों, नीति निर्माताओं के वक्तव्य, कौशल विकास और प्रौद्योगिकी-संचालित सामाजिक नवाचार पर केंद्रित पैनल चर्चाओं का आयोजन होगा। इस प्रतिष्ठित सम्मेलन पर अधिक प्रकाश डालते हुए आईसेक्ट के कार्यकारी उपाध्यक्ष डॉ. सिद्धार्थ चतुर्वेदी ने कहा, हमारा मानना है कि सामाजिक उद्यमिता और कौशल विकास देश में समावेशी विकास प्राप्त करने के लिए दो महत्वपूर्ण स्तंभ हैं। इसी दृष्टिकोण के साथ आईसेक्ट कौशल विकास, प्रशिक्षण, उच्च शिक्षा, वित्तीय समावेशन, प्रशिक्षुता, ऑनलाइन शिक्षण और डिजिटल सेवाओं के क्षेत्रों में काम कर रहा है और ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंच बनाकर कौशल विकास और डिजिटल साक्षरता का प्रसार कर रहा है। ऐसे ही प्रयासों के तहत सामाजिक उद्यमिता और कौशल विकास पर बातचीत के लिए हम हर साल इस राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन करते हैं। आईसेक्ट पिछले चार दशकों से जमीनी स्तर पर कार्य करते हुए 2047 तक विकसित भारत के दृष्टिकोण के लिए प्रतिबद्ध है। इस कड़ी में यह राष्ट्रीय सम्मेलन केवल एक कार्यक्रम नहीं है बल्कि एक सामूहिक प्रयास और व्यावहारिक संवादों के माध्यम से हमारे महान राष्ट्र की क्षमता को साकार करने की दिशा में एक आंदोलन है। इस वर्ष सम्मेलन में विभिन्न क्षेत्रों के सूक्ष्म उद्यमियों और छात्रों के लिए विभिन्न व्यावसायिक अवसरों का प्रदर्शन करने वाला एक एक्सपो भी आयोजित किया जाएगा। इसके आईसेक्ट द्वारा देश भर में हाल ही में आयोजित किए गए रोजगार मेलों से चयनित छात्रों को नौकरी के ऑफर लेटर्स भी प्रदान किए जाएंगे।

देश भऱ से 1500 से अधिक सूक्ष्म-उद्यमी आएंगे

सम्मेलन में विभिन्न क्षेत्रों के विषय विशेषज्ञ और वक्ता भाग लेंगे। साथ ही देश भऱ से 1500 से अधिक सूक्ष्म-उद्यमी भी कॉन्क्लेव का हिस्सा बनेंगे जिन्हें देश में उभरते नए स्किल डेवलपमेंट फ्रेमवर्क, कौशल विकास के नए क्षेत्रों सहित नई योजनाओं इत्यादि की जानकारी प्राप्त करने का मौका मिलेगा। इस प्रकार समारोह में देश भर से करीब 4000 से अधिक लोगों के शामिल होने की उम्मीद है। समारोह में पहले दिन 22 अप्रैल को बतौर मुख्य अतिथि एसबीआई कॉर्पोरेशन सेंटर मुंबई के उप प्रबंध निदेशक सुरेंद्र राणा शामिल होंगे, वहीं विशिष्ठ अतिथियों में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया भोपाल के महाप्रबंधक तरसेम सिंह जीरा, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया भोपाल से महाप्रबंधक एच.के. सोनी, मोटिवेशनल स्पीकर डॉ. राजीव अग्रवाल उपस्थित रहेंगे। दूसरे दिन 23 अप्रैल को उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि के रूप में शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास नई दिल्ली के राष्ट्रीय सचिव डॉ. अतुल कोठारी उपस्थित रहेंगे। वहीं अन्य अतिथियों में किशोर कुमार थंगावेलु (माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के प्रोजेक्ट मैनेजर), अर्पित शर्मा – मुख्य परिचालन अधिकारी (ग्रीन जॉब्स के लिए कौशल परिषद), सौम्या रंजन – मुख्य परिचालन अधिकारी (बीएफएसआई-एसएससी), श्वेता गौर – सत्व में एंगेजमेंट मैनेजर इत्यादि शामिल रहेंगे। इस दौरान वे कौशल अंतर को पाटने में सीएसआर की क्या भूमिका है, बीएफएसआई क्षेत्र में उद्योग एम्बेडेड कार्यक्रमों की संभावनाएं, एसटीईएम शिक्षा में महिलाओं की भागीदारी को प्रोत्साहित करना, नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में संभावनाओं (विशेषकर मप्र के संदर्भ में) इत्यादि विषयों पर विस्तार से महत्वपूर्ण चर्चा करेंगे। साथ ही कार्यक्रम में आईसेक्ट द्वारा माइक्रोसॉफ्ट, स्किल्स ऑन व्हील और बैंकिंग, वित्तीय सेवाओं और बीमा (बीएफएसआई) के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए जाएंगे।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments