Thursday, June 20, 2024
Homeराज्‍यमध्यप्रदेशआज आसमान में दिखेगा दुर्लभ खगोलीय नजारा..

आज आसमान में दिखेगा दुर्लभ खगोलीय नजारा..

भोपाल : आज शुक्रवार यानी 19 मई 2023 को आसमान में दुर्लभ खगोलीय नजारा दिखाई देगा। वट सावित्री अमावस्या पर चांद काला दिखाई देगा। इसे खगोलीय वैज्ञानिक ब्लैक मून (Black Moon) भी कहते हैं। लगभग 29 महीने में एक बार यह खगोलीय नजारा देखने को मिलेगा। दुर्लभ है क्योंकि 2021 में तो यह दिखाई तक नहीं दिया था।

चांद आसमान में हमेशा रहता है। अगर आपको लगता है कि अमावस्या पर चांद नहीं होता, तो यह गलत है। चांद होता है तो लेकिन उसकी चमकीली सतह या उस पर पड़ने वाला प्रकाश पृथ्वी की ओर नहीं होता, इस वजह से उसकी परछाई ही धरती से नजर आती है। साल में दो से पांच बार सूर्यग्रहण होने पर हम चांद को पूर्ण या आंशिक रूप से सूर्य को ढंकते भी देखते हैं।

इन तारीखों पर निकला था नया चंद्रमा

नया चांद हर 29.5 दिन पर निकलता है. यानी चंद्रमा धरती का एक चक्कर पूरा करता है. गर्मियों में आने वाले सॉल्सटिस यानी 21 जून 2023 से पहले काफी समय होता है. इसलिए इस बीच तीन और नए चांद निकलते हैं. इस सीजन के नए चंद्रमाओं के निकलने की तारीख थी- 21 मार्च, 20 अप्रैल, 19 मई और 18 जून. इस महीने निकलने वाला तीसरा नया चांद ब्लैक मून है.

ब्लैक मून चंद्रमाओं से संबंधित अलग-अलग घटनाओं से अलग होता है. जैसे ब्लू मून दूसरा पूर्ण चांद होता है. दूसरा नया चांद कई बार ब्लैक मून हो जाता है. यह हर 32 महीने पर एक बार होता है. कई बार ब्लैक मून तब निकलता है, जब किसी महीने में नया चांद या पूर्ण चंद्र न हो. ऐसा सिर्फ फरवरी में हो सकता है. क्योंकि यह महीना दिनों के हिसाब से कम होता है. आमतौर पर सिर्फ 28 दिन ही होते हैं. इस महीने में ब्लैक मून पांच या दस के अंतर पर दिखता है.

रात में दिख सकते हैं ज्यादा तारें

ब्लैक मून आपको इसलिए नहीं दिखता क्योंकि जो हिस्सा आप हर रोज देखते हैं. वह अंधेरे में चला जाता है. इसका मतलब ये नहीं कि रात में चांदनी नहीं होती. लेकिन रोशनी कम होने की वजह से आसमान में तारे ज्यादा दिखते हैं. यानी अगर आपको साफ आसमान में ज्यादा तारों को देखना है तो 19, 20 और 21 मई की रात बेहतरीन होगी

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments