Tuesday, April 23, 2024
Homeदुनियामौत की तारीख, दिन और समय बताएगा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), कितना सही......

मौत की तारीख, दिन और समय बताएगा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), कितना सही… कितना गलत…?

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI): आजकल पूरी दुनिया एआई को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा रहती है। एआई को लेकर जिस तरह के खबरें आती है वह लोगों को कभी कभी चिंता में भी डाल देती है। एआई मुश्किल से मुश्किल को मिनटों में करने की क्षमता तो रखता ही है लेकिन जिस तरह से एआई को उपयोग और दुरुपयोग होने की संभावनाएं है उससे लगता है कि एआई कुछ भी कर सकता है तो इसका गलत उपयोग की भी संभावनाएं उतनी ही ज्यादा है। लेकिन एआई अब इतना आगे बढ़ चुका है कि अब एआई यह तक बता सकता है कि आपकी मौत कब होगी। एआई का यह कारनामा चौैंकाने वाला है। एआई डैथ केलकुलेटर के रूप में यदि काम करने लगा तो यह बता सकने में सक्षम होगा कि किस दिन, कितने बजे और कब आपकी मौत होने वाली है। यानि यह आपकी मौत की भविष्यवाणी पहले ही कर देगा। यह सुनने में काफी डरावना लग सकता है। है न एआई की पास जादुई ताकत। नेचर कम्प्यूटेशनल साइंस जर्नल में जिस पेपर ने विवाद को जन्म दिया, उसमें मृत्यु की भविष्यवाणी करने के लिए एआई का उपयोग शामिल था, लेकिन यह बहुत सटीक नहीं था। डेनमार्क में हजारों लोगों के आर्थिक और स्वास्थ्य डेटा दोनों का उपयोग करते हुए, एक एआई-बेस्ड सिस्टम लगभग 78 प्रतिशत सटीकता के साथ भविष्यवाणी करने में सक्षम था कि अगले चार वर्षों के भीतर कौन से लोग मरेंगे।

life2vec कर रहा मौत की भविष्यवाणी

बीमांकिक टेबल बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाले एल्गोरिदम पहले से ही इस प्रकार का स्टैटिस्टिकल पूर्वानुमान करते हैं, लेकिन नया सिस्टम, जिसे life2vec कहा जा रहा है, अधिक सटीक है और पूरी तरह से अलग तरीके से काम करता है। पेपर के लीड ऑथर, कोपेनहेगन विश्वविद्यालय के कॉम्प्लेक्सिटी साइंस के प्रोफेसर सुने लेहमैन ने कहा कि life2vec जीवन की घटनाओं की उसी तरह भविष्यवाणी करता है जैसे ChatGPT शब्दों की भविष्यवाणी करता है।

गलत इस्तेमाल होने की संभावना

निष्कर्ष इसलिए मायने नहीं रखते कि वे एक अत्यधिक सटीक डेथ कैलकुलेटर बना सकते हैं, बल्कि इसलिए कि पूर्वानुमानों का उपयोग कैसे किया जा सकता है। ऐसे एल्गोरिदम का उपयोग लोगों के साथ भेदभाव करने या उन्हें स्वास्थ्य देखभाल या बीमा से वंचित करने के लिए किया जा सकता है। या फिर उनका उपयोग जीवन काल को प्रभावित करने वाले कारणों को उजागर करके और लोगों को लंबे समय तक जीने में मदद करके अच्छे कामों के लिए किया जा सकता है। या जीवनकाल की गणना करके कुछ लोग अपना रिटायरमेंट प्लान कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments