Friday, June 14, 2024
Homeदुनियामालदीव सरकार आयी घुटनों पर, मंत्रियों को किया बर्खास्त

मालदीव सरकार आयी घुटनों पर, मंत्रियों को किया बर्खास्त

मंत्रियों को किया बर्खास्त: प्रधानमंत्री मोदी की लक्षद्वीप यात्रा और लक्षद्वीप की खूबसूरती को लेकर पीएम मोदी की तारीफ से परेशान हुआ मालदीव खुद अपनों से ही संकट में घिर गया। असल में मालदीव की पूरी अर्थव्यवस्था ही पर्यटन पर टिकी हुई है और भारत ऐसा देश है जहां से बड़ी संख्या पर्यटक मालदीव पहुंचते है। इसी को लेकर मालदीव के कुछ मंत्रियों को लक्षद्वीप की खूबसूरती की पीएम मोदी की तारीफ हजम नहीं हुई और उनका इतना बुरा लगा कि वह भारत के लिये तो बुरा भला बोले ही साथ ही उन्होंंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ भी विवादस्पद टिप्पणी कर दी और यहीं से मानो मालदीव की मुसीबतें शुरू हो गई। देश में सोशल मीडिया पर हेशटेगबायकाट मालदीव ट्रेड होने लगा और मालदीव के खिलाफ और लक्षद्वीप के समर्थन में पर्यटन को लेकर फोटो और वीडियोज पोस्ट होने लगे। भारत सरकार ने आधिकारिक रूप से मालदीव को इस मुद्दे को लेकर विरोध दर्ज करा दिया। पर्यटन का भारी नुकसान की आशंका और कूटनीतिक रूप से खुद के घिरता देख मालदीव घुटनों पर आ गया। मालदीव सरकार की ओर बयान जारी कर सफाई दी गई।

मालदीव सरकार ने मंत्रियों को किया बर्खास्त

जैसे ही भारतीय उच्चायोग ने प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ की अपमानजनक टिप्पणियों से मालदीव सरकार को अवगत कराया वैसे ही मालदीव सरकार में बैठे तीन उप मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया गया। जो मंत्री बर्खास्त किये गये हैैं उनमें मालशा शरीफ, मरियम शिउना और अब्दुल्ला महजूम माजिद शामिल हैैं। मालदीव सरकार को आखिर यह कहना पड़ा कि यह उक्त सांसदों के निजी विचार हैैं और यह सरकार को आफिशियल रुख नहीं है। खुद मालदीव सरकार के पूर्व डिप्टी स्पीकर इवा अब्दुल्ला ने प्रधानमंत्री मोदी को लेकर की गई टिप्पणियों को शर्मनाक और नस्लवादी करार दिया उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर मुइज्जू सरकार को भारत के लोगों से माफी मांगनी चाहिए। वहां पूर्व राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने भी सोशल मीडिया पर भारत के खिलाफ की गई इस प्रकार की भाषा इस्तेमाल किये जाने को लेकर निंदा की है। उन्होंने एक्स पर लिखा कि भारत हमेशा मालदीव का एक अच्छा दोस्त रहा है और हमें इस तरह की अपमानजनक टिप्पणियों के माध्यम से दोनों के बीच सदियों से चली आ रही पुरानी दोस्ती पर नकारत्मक कोशिश कामयाब नहीं होने देना चाहिये। मालदीव के पूर्व विदेश मंत्री ने भी पीएम मोदी के विरूद्ध की गई टिप्पणियों को अपत्तिजनक बताया। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक पदोंंं पर काम कर रहे लोगों को अपनी मर्यादा बनाए रखनी चाहिए। मालदीव के पूर्व खेलमंत्री अहमद महलूफ ने कहा कि भारतीय द्वारा मालदीव का वहिष्कार किये जाने से हमारी अर्थव्यवस्था पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि हम भारतीय को प्रेम करते हैैं, उनका हमेशा मालदीव में स्वागत होगा।

बता दें कि पीए मोदी पर मालदीव के नेताओं द्वारा विवादित बयानों के बाद भारत में सोशल मीडिया पर #BoycottMaldives ट्रेंड कर रहा है। अब तक हजारों लोगों ने मालदीव जाने का अपना प्लान बंद कर दिया है।भारत से बड़ी संख्या में लोग मालदीव घूमने जाते हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि मालदीव टूरिज्म को बड़ा झटका लग सकता है। न्यूज एजेंसी ANI के अनुसार भारत के समर्थन में निशांत पिट्टी ने सोशल मीडिया साइट X पर लिखा ‘हमारे देश के साथ एकजुटता दिखाते हुए EaseMyTrip ने सभी मालदीव उड़ान बुकिंग को रद्द कर दिया है।’ इसके साथ ही EaseMyTrip ने #ChaloLakshadweep अभियान शुरू कर दिया है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments