Tuesday, May 28, 2024
Homeधर्मVivah Muhurat 2024: साल 2024 में 77 दिन खूब बजेंगी शहनाइयां, जानें...

Vivah Muhurat 2024: साल 2024 में 77 दिन खूब बजेंगी शहनाइयां, जानें विवाह मुहूर्त, तिथि एवं नक्षत्र संयोग

Vivah Muhurat 2024: वर्ष 2024 में वर्ष 2023 की अपेक्षा 4 दिन विवाह मुहूर्त कम रहेंगे। सनातन धर्म में ज्योतिष शास्त्र का विशेष महत्व है। ज्योतिषियों की मानें तो सही समय पर मंगल कार्य करने से शुभ फल प्राप्त होता है। साथ ही कार्य में सफलता मिलने की संभावना बढ़ जाती है। अतः सभी मांगलिक कार्यों के लिए शुभ मुहूर्त देखा जाता है। अगर आप साल 2024 में परिणय सूत्र में बंधने वाले हैं तो विवाह हेतु शुभ मुहूर्त अवश्य नोट कर लें। आइए विवाह हेतु शुभ तिथियां और मुहूर्त जानते हैं।

खास बात यह है कि जो लोग गर्मी के मौसम में विवाह करने की सोच रहे हैं, उन्हें वर्ष 2024 में वर्ष 2023 की अपेक्षा 4 दिन विवाह मुहूर्त कम रहेंगे, क्योंकि मई और जून में एक भी दिन विवाह मुहूर्त नहीं रहेंगे। इसकी वजह इन दोनों माह में शुक्र ग्रह का अस्त होना है। इसके उदित होने के बाद जुलाई में ही मुहूर्त शुरू होंगे। ज्योतिषाचार्य ने बताया कि 24 वर्ष बाद मई और जून में एक भी दिन विवाह मुहूर्त नहीं रहेगा। इसकी वजह दोनों महीनों में शुक्र ग्रह का अस्त होना है। शुक्र उदित होने के बाद जुलाई में ही विवाह मुहूर्त शुरू होंगे। नए साल 2024 में 77 दिन विवाह मुहूर्त रहेंगे। सबसे ज्यादा शादियों के मुहूर्त फरवरी में 20 दिन रहेंगे। वैदिक ज्योतिष में गुरु को शुभ फलदायी ग्रह माना गया है। जन्म कुंडली में गुरु ग्रह की स्थिति शुभ होने पर व्यक्ति को हर क्षेत्र में सफलता हासिल होती है।

16 दिसम्बर 2023 से लगेगा धनु मलमास

मार्गशीर्ष शुक्ल चतुर्थी पर 16 दिसम्बर को धनु मलमास शुरू हो जाएगा, जो पौष शुक्ल तृतीया पर 14 जनवरी तक रहेगा। इसके बाद फिर से शादी एवं अन्य मांगलिक कार्य शुरू होंगे। मलमास में शादियों और अन्य शुभ कार्यों पर विराम रहेगा।

मई और जून 2024 में अस्त रहेंगे गुरु-शुक्र

ज्योतिषाचार्य ने बताया कि विवाह मुहूर्त में गुरु और शुक्र अस्त का भी विचार किया जाता है। अच्छा शुक्र भोग विलास का नैसर्गिक कारक है और दांपत्य सुख को दर्शाता है। वहीं, गुरु कन्या के लिए पति सुख का कारक है। दोनों ग्रहों का शुभ विवाह हेतु उदय होना शास्त्र सम्मत है, विवाह के लिए शुक्र व गुरु ग्रह का उदित रहना जरूरी है। दोनों ग्रह विवाह के कारक हैं।इनके अस्त रहने पर विवाह नहीं होते हैं। 23 अप्रैल 2024 को शुक्र ग्रह दोपहर में अस्त हो जाएगा, जो 29 जून तक अस्त रहेगा। 6 मई से गुरु ग्रह भी अस्त हो जाएगा, जो 2 जून को उदित होगा, परंतु शुक्र अस्त ही रहेगा इस कारण से मई व जून माह में विवाह की शहनाई नहीं बजेंगी। सर्वाधिक मुहूर्त फरवरी में 20 दिन रहेंगे। सबसे कम 5- 5 दिन अप्रैल व अक्टूबर में होंगे।

फरवरी 2024 में सबसे ज्यादा विवाह मुहूर्त

साल 2024 अप्रैल में 5 दिन शादियों हो पाएंगी. वहीं, सबसे ज्यादा विवाह मुहूर्त फरवरी में 20 और जनवरी-दिसंबर में 10 दिन रहेंगे. इसके बाद मार्च में 9 दिन, जुलाई में 8 दिन, अक्टूबर में 6 दिन और नवंबर में 9 दिन विवाह मुहूर्त रहेंगे। विवाह मुहूर्त की गणना करते समय शुक्र तारा और गुरु तारा पर विचार किया जाता है। बृहस्पति और शुक्र के अस्त होने पर विवाह और अन्य मांगलिक कार्यक्रम नहीं किए जाते हैं। इसलिए, इस दौरान कोई विवाह समारोह नहीं किया जाना चाहिए। आइए ज्योतिषाचार्य से जानते हैं वर्ष 2024 के शुभ मुहूर्त

शुभ विवाह मुहूर्त 2024

  • जनवरी (January): 16,17,20 से 22,27 से 31 (10 दिन)
  • फरवरी (February): 1 से 8,12 से 14,17 से 19,23 से 27,29 (20 दिन)
  • मार्च (March): 1 से 7, 11,12 (9 दिन)
  • अप्रैल (April): 18 से 22 ( 5 दिन)
  • जुलाई (July): 3,9 से 15 (8 दिन)
  • अक्टूबर (October): 3,7,17,21,23,30 (6 दिन)
  • नवंबर (Noveber): 16 से 18, 22 से 26,28 ( 9 दिन)
  • दिसंबर (December): 2 से 5, 9 से 11, 13 से 15 (10 दिन)

इन महीनों में नहीं होगी शादी

ज्योतिषियों की मानें तो देवगुरु बृहस्पति और दैत्यों के गुरु शुक्र विवाह के कारक हैं। कुंडली में गुरु और शुक्र के मजबूत होने पर शीघ्र शादी हो जाती है। वहीं, कमजोर होने पर शादी में बाधा आती है। जबकि, गुरु और शुक्र तारा के अस्त होने पर विवाह नहीं होता है। साल 2024 में शुक्र ग्रह के अस्त होने के चलते मई और जून महीने में विवाह मुहूर्त नहीं है। इसके अलावा, जुलाई 16 से लेकर 12 नवंबर तक चातुर्मास (चार महीने तक) के चलते विवाह मुहूर्त नहीं है। हालांकि, इन दिनों में अबूझ मुहूर्त के दौरान शादी हो सकती है। अत: अबूझ मुहूर्त के लिए स्थानीय पंडित या ज्योतिष से संपर्क कर सकते हैं।

कुछ पंचांग में भेद होने के कारण तिथि में परिवर्तन हो सकता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments