Wednesday, April 24, 2024
Homeदेशलापरवाही: बगैर ड्राइवर व गार्ड के 51 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से...

लापरवाही: बगैर ड्राइवर व गार्ड के 51 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से 70 किलोमीटर का सफर

लापरवाही: जम्मू का कठुआ स्टेशन और एक मालगाड़ी जिसमें चिप पत्थरों से भरे डब्बे वाली डीएमआर ट्रेन को ड्रायवर ने अपनी ड्यूटी समाप्त होने पर स्टेशन पर खड़ा कर दिया। मालगाड़ी के दोनों इंजन बंद थे। लेकिन ड्रायवर के जाते ही ट्रेन ने चलना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे पकड़ ली रफ्तार और रफ्तार भी ऐसी कि 51 किलोमीटर प्रतिघंटा और सफर तय कर लिया 70 किलोमीटर का। इन 70 किलोमीटर के सफर में ट्रेन विदाउट पायलट को कई स्टेशनों पर रोकने की कोशिश की गई मगर सब बेकार। रेलवे के अधिकारियों की भारी मशक्कत के बाद ही ट्रेन को होशियारपुर के पास बमुश्किल रोका जा सका।

आइए जानते है कि पूरा मामला आखिर है क्या और ऐसा हुआ क्यों। दरअसल रेलवे मैन्युअल में त्रिस्तरीय सुरक्षा मानकों की अनदेखी के कारण रविवार को एक मालगाड़ी बगैर ड्राइवर व गार्ड के जम्मू से पंजाब पहुंच गई। हजारों टन माल से लदा होने के कारण मालगाड़ी ने ढलान पर दौडऩा शुरू दिया और अधिकतम 51 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार पकड़ ली। इससे रेल प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए। कठुआ (जम्मू) से होशियारपुर (पंजाब) के बीच 70 किलोमीटर का सफर तय कर चुकी इस मालगाड़ी को रेल अधिकारी भारी मशक्कत से बालू की बोरियां रखकर रोकने में सफल रहे। इस घोर लापरवाही को लेकर अभी तक किसी के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई है, लेकिन रेलवे ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं। रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जम्मू के कठुआ में सुबह छह बजे ड्यूटी समाप्त होने पर चिप पत्थर से लदी डीएमआर मालगाड़ी को स्टेशन पर खड़ा कर दिया। मालगाड़ी में लगे दोनों इंजन भी बंद थे। रेलवे मैन्युअल के अनुसार ऐसी स्थिति में इंजन व डिब्बे के पहियों में चार-छह लकड़ी के गुटके लगाए जाते हैं, जिससे ढलान में मालगाड़ी आगे चलनी नहीं शुरू कर दे। इसके साथ ही पहियों को सेफ्टी जंजीर से पटरियों से बाधा जाता है और इंजन का एडॉप्टर गिराकर ब्रेक लॉक कर दिया जाता है, जिससे मालगाड़ी में ब्रेक लगे रहते हैं।

नियमों का नहीं किया गया पालन

रेल मैन्युअल के त्रिस्तरीय सुरक्षा चक्र को सहायक लोको पॉयलेट, लोको पॉयलेट, गार्ड, रेलवे स्टेशन के संरक्षा कर्मियों ने पालन नहीं किया। इसके चलते सुबह 7.25 पर मालगाड़ी ढलान होने के कारण खुद ही चल पड़ी। दो डीजल इंजन व 53 डिब्बों में चिप पत्थर लदे होने के कारण मालगाड़ी ने 70 किलोमीटर को एक घंटे 35 मिनट में पूरा कर लिया। यानी मालागाड़ी 53.85 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार पर दौड़ती रही। जम्मू-जालंधर का यह सेक्शन ढलान वाला है और इस दौरान कोई बड़ा हादसा हो सकता था। पंजाब के होशियारपुर के बस्सी रेलवे स्टेशन के पास एक चढ़ाई वाले स्थान पर बालू की बोरियां रखकर मालगाड़ी को रोका गया। रेलवे के प्रवक्ता ने बताया कि घटना का सही पता लगाने के लिए जांच शुरू कर दी गई है। किसी प्रकार की जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments