Wednesday, May 22, 2024
Homeखबरेंभोज में आरंभ होंगे तीन नए स्टडी सेंटर

भोज में आरंभ होंगे तीन नए स्टडी सेंटर

भोपाल। भोज मुक्त विश्वविद्यालय में जल्‍द तीन नए स्‍टडी सेंटर आरंभ होने जा रहे हैं। यह जानकारी भोज मुक्त विश्वविद्यालय की आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन केंद्र सीका की बाह्य विशेषज्ञ समिति की बैठक में दी गई। बैठक की अध्यक्षता मध्यप्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो संजय तिवारी द्वारा की गई। इस अवसर पर कुलसचिव डॉ. सुशील मंडेरिया भी उपस्थित रहे। समिति में बाह्य सदस्यों के रूप में प्रो (डॉ) राजेंद्र प्रसाद दास, कुलपति, कृष्ण कांत हांडिक स्टेट ओपन यूनिवर्सिटी गोवाहाटी, असम एवम डॉ. संतोष पांडा, डायरेक्टर एसटीआरआईडीई, इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय, नई दिल्ली सम्मिलित हुए। बैठक में विश्वविद्यालय के आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन केंद्र के सभी आंतरिक सदस्य भी उपस्थित रहे। बैठक के प्रारंभ में विश्वविद्यालय की आंतरिक गतिविधियों एवम अधोसरंचना को दर्शाती हुई एक लघु फिल्म प्रदर्शित की गई, जिसकी सभी ने सराहना की। बैठक में आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन केंद्र द्वारा विश्वविद्यालय के तीन मुख्य क्षेत्रों: अकादमिक, प्रशासनिक एवम अधोसंरचना से संबंधित विषयों पर विचार विमर्श हुआ। गत वर्ष विश्वविद्यालय को नैक द्वारा प्राप्त ग्रेड ए के लिए समिति के बाह्य सदस्यों ने विश्वविद्यालय के सदस्यों की प्रशंसा की एवम बधाई दी। बैठक में बाह्य सदस्यों ने विश्वविद्यालय में संचालित यूजीसी द्वारा अनुमोदित 35 मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा प्रोग्राम एवम एअईसीटीई द्वारा अनुमोदित 9 प्रोग्राम हेतु विश्वविद्यालय के प्रयासों की सराहना की। आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन केंद्र द्वारा तैयार किया गया विश्वविद्यालय का इंस्टीट्यूशनल डेवलपमेंट प्लान की वार्षिक रिपोर्ट (2022-23) एवम विश्वविद्यालय की वार्षिक रिपोर्ट को सदस्यों के समक्ष प्रस्तुत किया गया। डॉ. राजेंद्र प्रसाद दास एवम डॉ. संतोष पांडा ने उक्त बैठक में उच्च शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश द्वारा मध्य प्रदेश भोज (मुक्त) विश्वविद्यालय को समाजशास्त्र विषय का भारतीय ज्ञान परंपरा का केंद्र बनाने पर बधाई दी एवम इसके क्रियान्वयन पर भी चर्चा की गई। इसी कड़ी में बहुत जल्द तीन नए स्टडी सेंटर के आरंभ होने की भी सूचना दी गई। साथ ही साथ आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन केंद्र एवम विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों द्वारा तैयार कराई गई अकादमिक एवं अन्य गतिविधियों की रिपोर्ट भी प्रस्तुत की गई। बैठक के अंत में समिति सदस्यों द्वारा विश्वविद्यालय आगामी सत्र 2024-25 से प्रवेश प्रक्रिया सीयूईटी के माध्यम से कराए जाने की भी सूचना दी गई। इसके अतिरिक्त कई अन्य मुख्य बिंदुओं पर भी सदस्यों ने अपने अपने विचार प्रस्तुत किये एवं कुछ महत्वपूर्ण तत्थ्यों पर निर्णय भी लिए गए।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments