Wednesday, February 21, 2024
Homeट्रेंडिंगओडिशा की लाल चींटी की चटनी को मिला GI Tag, जानिये इसकी...

ओडिशा की लाल चींटी की चटनी को मिला GI Tag, जानिये इसकी खासियत

GI Tag: दुनिया भर के समुदायों में सदियों से कीड़ों को खाद्य स्रोत के रूप में खाया जाता रहा है। ओडिशा के मयूरभंज जिले में, लाल चींटियों का उपयोग चटनी बनाने के लिए किया जाता है जिसे “काई चटनी” कहा जाता है। यह चटनी अपने औषधीय और पौष्टिक गुणों के लिए क्षेत्र में काफी प्रसिद्ध है। 2 जनवरी, 2024 को इस विशिष्ट स्वादिष्ट चटनी को भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग से सम्मानित किया गया।

औषधीय और पोषण से भरपूर

दरअसल, लाल बुनकर चींटियों से बनी इस चटनी को मयूरभंज जिले के आदिवासियों का पारंपरिक व्यंजन है। ये लाल चींटियां मयूरभंज के जंगलों में पाई जाती हैं, जिनमें सिमिलिपाल के जंगल भी शामिल है। औषधीय और पोषण मूल्य से भरपूर इस चटनी को उड़ीसा के अलावा और भी दूसरे राज्यों के आदिवासी लोगों के द्वारा खाया जाता है।

अंडे का इस्तेमाल

इस चटनी को बनाने के लिए इसके अंडे का भी इस्तेमाल किया जाता है। ये स्वाद में काफी तीखी होती है. लाल चींटियों को लहसुन और हरी मिर्च के साथ पीसा जाता है। पहले चींटी और उसके अंडों बांबी से जमा किया जाता है। उसे पीसा जाता है और फिर सुखाया जाता है। सूखने के बाद उसे मुसल में फिर से पीसते हैं। टमाटर, धनिया, नमक और मिर्च डालकर इसकी चटनी बनाई जाती है।

प्रोटीन की है खान

अगर आपको लग रहा है कि आखिर कैसे लोग इस चटनी को खा लेते हैं, तो पहले पोषक तत्वों के बारे में जान लें। लाल चींटी की ये चटनी प्रोटीन की खान है। इसके कई औषधीय गुण हैं। इसमें मौजूद फॉर्मिट एसिड पेट की कई बीमारियों से बचाव करता है। साथ ही इसमें कैल्शियम और जिंक भी काफी मात्रा में पाया जाता है। एक्सपर्ट्स ने भी माना है कि ये चटनी कई बीमारियों से बचाव में मदद करता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments