Friday, June 14, 2024
Homeलाइफस्टाइलनए साल का होने वाला है आगाज, जानें दुनिया के अलग-अलग कोनों...

नए साल का होने वाला है आगाज, जानें दुनिया के अलग-अलग कोनों में कैसे मनाया जाता है New Year, सुनकर हो जाएंगे हैरान

Happy New Year 2024 : 31 दिसंबर 2023 का दिन खत्म होते ही रात 12 बजे दुनिया साल 2024 का स्वागत करेगी। इस दिन पुराने साल को अलविदा कहकर 1 जनवरी को नए साल का जश्न मनाया जाता है, लेकिन लोग न्यू ईयर का जश्न अलग-अलग तरीके से मनाते हैं। कोई मेला, होटल, मॉल या क्लब में पार्टी करके या फिर नाच गाकर जश्न मनाते हैं। आज हम आपको कुछ जगहो के रोचक फैक्ट्स बताने जा रहे हैं, जहां बिल्कुल अलग ढ़ंग से नए साल का जश्न मनाते हैं।

45 ईसा पूर्व रोमन साम्राज्य में कैलेंडर का चलन हुआ करता था। रोम के तत्कालीन राजा नूमा पोंपिलुस के समय रोमन कैलेंडर में 10 महीने होते थे, साल में 310 दिन और सप्ताह में 8 दिन। कुछ समय बाद नूमा ने कैलेंडर में बदलाव कर दिए और जनवरी को कैलेंडर का पहला महीना माना। 1 जनवरी को नया साल मनाने का चलन 1582 ई. के ग्रेगेरियन कैलेंडर की शुरुआत के बाद हुआ।

डेनमार्क में

डेनमार्क में नए साल के मौके पर प्लेटें तोड़ीं जाती है। यहां की मान्यता है कि आने वाला नया साल खुशियां लेकर आएगा। इसलिए डेनमार्क में लोग अपने दोस्तों या रिश्तेदारों के घर जाकर उनके दरवाज़े पर प्लेटें तोड़कर फेंक देते हैं। यह शुभकामना संदेश की तरह होता है।

ब्राज़ील में

ब्राज़ील में नये साल के स्वागत के लिए अनोखी परंपरा है। नये साल के मौके पर यहां लोग खास तौर पर दाल पकाकर खाते हैं। दाल को धन दौलत का प्रतीक माना जाता है। इसलिए माना जाता है, कि दाल खाने से नये साल में समृद्धि हासिल होती है।

स्पेन में

नए साल के जश्न पर स्पेन में 12 बजते ही लोग अंगूरों की तरफ टूट पड़ते हैं।मान्यता है कि में मध्यरात्रि में अंगूर खाने से आने वाले 12 महीने आपके लिए खुशहाली लाते हैं।

एशियाई देशों

नये साल के स्वागत एशियाई देशों (जापान और ​दक्षिण कोरिया) में घंटी बजाई जाती है। जगह जगह पूर्व संध्या पर लोग घंटी बजाते हुए दिखते हैं। जापान में तो मान्यता के हिसाब से 108 बार घंटी बजाना शुभ माना जाता है। इसलिए वहां शोर काफी होता है।

रोमानिया में

क्रिसमस पर बच्चों या बड़ों के सैंटा की पोशाक पहनने के बारे में आपने सुना होगा लेकिन रोमानिया में नववर्ष का स्वागत करने के लिए लोग भालू जैसी पोशाक पहनकर डांस करते हैं। इसके पीछे मान्यता है कि नये साल में बुरी आत्माओं से छुटकारा मिले। दरअसल, पुरानी रोमनियाई कहानियों में भालू काफी स्पेशल रहे हैं और लोगों की रक्षा व इलाज करने तक के लिए मददगार माने जाते हैं।

इंडियाना में

अमेरिका के कई शहरों में नववर्ष की पूर्व संध्या पर कुछ चीज़ें ऊंचाई से फेंकते हैं। मिसाल के तौर पर इंडियाना में लोग ऊंचाई से तरबूज़ फेंकते हैं। वहीं दक्षिण अफ्रीका के जोहानिसबर्ग में मान्यता है कि नये साल के स्वागत में घर का गैर ज़रूरी सामान बाहर कर दिया जाता है। लेकिन इसे कबाड़ी को बेचना या फिर रीसेल करने जैसा सिस्टम नहीं है बल्कि अपनी खिड़कियों से लोग खास तौर से पुराना फर्नीचर बाहर फेंकते हैं। इसके पीछे मान्यता यही है कि नये साल में नया सौभाग्य उन्हें हासिल हो।

दक्षिण अमेरिका

दक्षिण अमेरिका के कुछ देशों में नये साल की पूर्व संध्या पर सूटकेस लेकर घूमते हैं। यहां की मान्यता है कि खाली सूटकेस लेकर वॉक करने से पूरा साल रोमांसों से भरा रहेगा। मैक्सिको जैसे कुछ लैटिन अमेरिकी देशों में नर्ष साल पर रंग बिरंगी अंडरवियर पहनते हैं. ऐसा माना जाता है कि पीला अंडरवियर समृद्धि और सफलता लाएगा, लाल प्यार लाएगा, सफेद शांति और सद्भाव लाएगा, जबकि हरा अच्छा स्वास्थ्य लाएगा.

चिली में मृतकों के साथ कब्रिस्तान

नए साल के मौके पर चिली में कब्रिस्तान में सोकर जश्न मनाते हैं। जहां उनके मृत रिश्तेदारों को उनकी मृत्यु के बाद दफनाया गया होता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments