Sunday, July 21, 2024
Homeराज्‍यमध्यप्रदेशआधार नंबर और समग्र आईडी में फंसा 9 लाख बच्चों का भविष्य

आधार नंबर और समग्र आईडी में फंसा 9 लाख बच्चों का भविष्य

Bhopal News: सिंगल सिटीजन डाटाबेस तैयार करने के लिए राज्य सरकार द्वारा समग्र आईडी पोर्टल पर कराए जाने वाले रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया माध्यमिक शिक्षा मंडल की परीक्षाओं के लिए रजिस्टर्ड होने वाले स्टूडेंट्स पर भारी पड़ रही है। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने जिला शिक्षा अधिकारियों के माध्यम से प्राचार्यों को निर्देश दिए हैं कि प्रदेश भर में होने वाले नौवीं और दसवीं क्लास के स्टूडेंट का रजिस्ट्रेशन समग्र पोर्टल के माध्यम से ही होना चाहिए। समग्र पोर्टल में मौजूद रजिस्ट्रेशन नंबर ही शिक्षा मंडल द्वारा ली जाने वाली परीक्षाओं में स्टूडेंट्स की अनुमति के लिए पात्रता की वजह बनेगा। नौवीं क्लास में इस साल रजिस्टर्ड होने वाले स्टूडेंट्स की संख्या 9 लाख के से अधिक बताई जा रही है।

शिक्षा मंडल के इस फैसले को लेकर जिलों में गफलत की स्थिति बनी हुई है और इसको लेकर अब विद्यालय प्राचार्य माध्यमिक शिक्षा मंडल और स्कूल शिक्षा विभाग से संबंधित अन्य अफसरों के चक्कर लगा रहे हैं। प्राचार्यों की शिकायत है कि समग्र पोर्टल पर स्टूडेंट के नाम एंट्री करने में आ रही तकनीकी दिक्कतों के कारण रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पा रही है। ऐसे में बच्चों के रजिस्ट्रेशन प्रभावित हो रहे हैं। इस मामले में समग्र पोर्टल की व्यवस्था देख रहे एमपीएसईडीसी के अफसरों का कहना है कि अगर कहीं किसी को दिक्कत आती है तो ग्रामीण क्षेत्र के स्कूल प्राचार्य को जनपदों और शहरी क्षेत्र के प्राचार्य को नगरीय निकायों से संपर्क कर रजिस्ट्रेशन का यह काम करना चाहिए।

माध्यमिक शिक्षा मंडल का तर्क

माध्यमिक शिक्षा मंडल के अफसर का कहना है कि इसके लिए मंडल की ओर से पर्याप्त समय दिया गया है। जहां दिक्कत आ रही है वहां आधार और सामग्र के नंबर मिसमैच होना कारण है‌ स्टूडेंट के गलत डेटा एंट्री होने से दिक्कत हो रही है लेकिन इसकी सुधार की व्यवस्था भी है। जो आधार में डेटा सही कर लेंगे उनका समग्र में रजिस्ट्रेशन अपने आप हो जाएगा। नौवीं क्लास में रजिस्टर्ड वालों के बच्चों की संख्या 9 लाख से अधिक है। अब तक रजिस्टर्ड हुए स्टूडेंट्स की स्थिति 30 सितंबर के बाद ही साफ हो पाएगी।

अफसर बोले

अभिजीत अग्रवाल, एमडी, एमपीएसईडीसी बोले, समग्र आईडी में रजिस्ट्रेशन के दौरान चूक होने से कई बार नाम में भिन्नता के कारण दिक्कत होती है। सरकार ने सिंगल सोर्स आफ ट्रुथ की व्यवस्था के अंतर्गत सिंगल सिटीजन डाटाबेस तैयार करने का काम चालू किया है। इसी तारतम्य में नवमी व दशमी के स्टूडेंट्स के भी रजिस्ट्रेशन समग्र पोर्टल के माध्यम से उपलब्ध कराने की तैयारी है। इसका लाभ यह है कि सरकार की लाडली बहना योजना जैसी स्कीम में वृहद स्तर पर काम किया जा सका। अगर कहीं दिक्कत है तो वह स्थानीय स्तर की समस्या हो सकती है।

अंजनी कुमार त्रिपाठी, डीईओ, भोपाल बोले, माध्यमिक शिक्षा मंडल ने नवमी और दसवीं कक्षाओं के लिए कराए जाने वाले रजिस्ट्रेशन का पूरा डाटा समग्र आईडी पोर्टल के माध्यम से ही लेना अनिवार्य कर दिया है। इस कारण जिलों में दिक्कत हो रही है। अगर विद्यालय प्राचार्य गंभीरता से नहीं लेंगे तो उनके विद्यालय के स्टूडेंट का रजिस्ट्रेशन समग्र पोर्टल में होने में दिक्कत होगी और इसका सीधा असर विद्यार्थी की परीक्षा पर पडे़गा। इसलिए ध्यान देने की जरूरत है। भोपाल में भी इसको लेकर भी प्रयास किया जा रहे हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments