Monday, February 26, 2024
Homeट्रेंडिंगदुनिया में एक बार फिर कोरोना का कहर बरपा, दिसंबर में क्यों...

दुनिया में एक बार फिर कोरोना का कहर बरपा, दिसंबर में क्यों बढ़ते है केस, जानें वजह

Covid-19 Update: भारत सहित दुनिया भर में एक बार फिर से एक नया कोविड-19 वेरिएंट फैल रहा है। दिसंबर 2019 में चीन से शुरू हुआ कोरोना का संक्रमण चार साल बीत जाने के बाद अब भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। वैक्सीनेशन के कारण बनी हर्ड इम्युनिटी के चलते लोगों में गंभीर रोगों का खतरा जरूर कम है, पर वायरस में लगातार म्यूटेशन जारी है। ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि हर बार नवंबर-दिसंबर में कोरोना के मामले क्यों बढ़ने लगते हैं? आइए इसे समझते हैं।

WHO ने इसे वेरिएंट ऑफ इंटरेस्ट के रूप में वर्गीकृत किया

यह साल 2019 की सर्दी थी और दुनिया पूरे पारंपरिक उल्लास के साथ नए साल का स्वागत करने के लिए तैयार थी। लेकिन, जैसा कि हम सभी को याद है नए साल के ठीक पहले दुनिया में एक अनोखे वायरस ने एंट्री मारी। इसके बाद वायरस ने हर किसी के जीवन को उलट-पुलट कर दिया। पहली बार कोरोना वायरस चीन में रिपोर्ट किया गया। इसके बाद लगभग हर साल सर्दियों में कोरोना की एक लहर आ जाती है। अब सवाल है कि हर बार दिसंबर में ही कोरोना की लहर आ जाती है।
इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार चार साल बाद, कोविड-19 महामारी समाप्त हो गई है, लेकिन वायरस अपने कई वेरिएंट के रूप में हमारे जीवन में मौजूद है। इस दिसंबर में, महामारी का कारण बनने वाला कोरोना वायरस का एक नया प्रकार – जेएन.1 – दुनिया भर में लहरें पैदा कर रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे वेरिएंट ऑफ इंटरेस्ट के रूप में वर्गीकृत किया है। लेकिन यह नोट किया है कि यह सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए कम जोखिम पैदा करता है।

2020 के दिसंबर में कोविड-19 में तीन बड़े वेरिएंट देखे गए

साल 2020 के दिसंबर में कोविड-19 में तीन बड़े वेरिएंट देखे गए। इसमें अल्फा (बी.1.1.7), बीटा (बी.1.351), और गामा (पी.1) शामिल था। एक साल बाद, दिसंबर 2021 में ओमिक्रॉन वेरिएंट ने लॉकडाउन में ढील शुरू होने के कुछ ही महीनों बाद दुनिया को फिर से लॉकडाउन में भेज दिया। फिर साल 2022 के दिसंबर में, जबकि कोई नया प्रमुख वेरिएंट सामने नहीं आया था, हमने बीए.2 और बीए.5 जैसे सबवेरिएंट का उदय देखा, जो सभी कोरोनवायरस की ओमिक्रॉन के भीतर वर्गीकृत हैं. और अब हमारे पास JN.1 वेरिएंट है जो ओमिक्रॉन के वंश से संबंधति है।

क्यों दिसंबर में आती है लहर

कई अध्ययनों ने ठंड और शुष्क सर्दी को कोविड-19 मामलों में वृद्धि के पीछे एक त्वरित कारक के रूप में इंगित किया है। डेल्टा वेरिएंट द्वारा ट्रिगर की गई दूसरी लहर की शुरुआत का विश्लेषण करने के लिए किए गए जर्नल नेचर में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि महामारी की पहली लहर के दौरान, मौसम की स्थिति ने प्रभावित किया कि वायरस कितनी आसानी से फैलता है।
चीन की सिचुआन इंटरनेशनल स्टडीज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने भी इस बात की पुष्टि की। उनके अध्ययन में पाया गया कि ठंडी परिस्थितियों में रहने वाले लोगों की तुलना में कोरोना वायरस से संक्रमित होने की अधिक संभावना है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments